अमर्यादित टिप्पणी के लिए तेजस्वी से माफी मांगे पप्पू यादव – एजाज अहमद

0
59

राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता एजाज अहमद ने असंसदीय और अमर्यादित भाषा के लिए पूर्व सांसद पप्पू यादव से अविलंब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव पर की गई टिप्पणी के लिए माफी की मांग की है। और कहा कि इन्होंने जिस तरह की बातों और भाषा का इस्तेमाल किया है ये एक सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता के लिए किसी भी दृष्टिकोण से उचित और शोभनीय नहीं है । उनके इस इस तरह के बयान से यह साबित होता है कि वह सिर्फ खबरों में बने रहने के लिए ही अनर्गल प्रलाप करते रहते हैं और सच्चाई से पूरी तरह से अनभिज्ञ हैं या जानबूझकर सच्चाई से मुंह मोड़ रहे,जबकि पूरा बिहार यह जानता है कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने विधानसभा के अंदर चाहे अवैध शराब के धंधे मे लिप्त मंत्री और उनके परिवार के संलिप्त होने का मामला हो या बढ़ते अपराध , भ्रष्टाचार और महिलाओं पर अत्याचार का मामला हो हर ज्वलंत मुद्दे पर अपने तर्कपूर्ण विचारों से न सिर्फ सरकार को पूरी तरह से बेनकाब किया बल्कि नीतीश को भी ये सोचने पर मजबूर किया कि नेता प्रतिपक्ष के विचार और उनके वाकपटुता से डबल इंजन की सरकार पूरी तरह से बेनकाब हो रही है जिससे उनकी भद पिट रही है।
एजाज ने आगे कहा कि तेजस्वी प्रसाद यादव के तर्कपूर्ण और बेहतर ढंग से सदन में बात रखे जाने के कारण ही राज्य सरकार सदन में पूरी तरह से निरुत्तर हो चुकी हैं और नीतीश कुमार से विधानसभा के अंदर या बाहर जवाब देते नहीं बन रहा है, जिसकी खीज स्पष्ट रूप से सदन के अंदर मंत्रियों के द्वारा बौखलाहट भरे बातों तथा जवाबों से समझा जा सकता है।
इन्होंने ने आगे कहा कि बिहार के उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद के द्वारा सदन के अंदर विधानसभा अध्यक्ष पर विपक्ष के दबाव में काम करने का आरोप लगाना यह साबित करता है कि बिहार में विपक्ष पूरी मजबूती के साथ जनता के हित में जनता के सवालों को लेकर सरकार को हर स्तर पर घेरने में सफल रही है और विपक्ष के दबाव का ही परिणाम है कि बिहार में सरकार का पोल खुल रहा है और नीतीश – भाजपा के बीच के रिश्ते का पेंच खुलकर सामने आ रहा है। लेकिन लगता है कि विपक्षी दल को टारगेट करने के लिए सत्ता पक्ष को खुश करने के दृष्टिकोण से जुगाड़ टेक्नोलॉजी के सहारे पप्पू जी भाजपा और जदयू के लिए बैटिंग करके अपना भविष्य की तलाश में तेजस्वी प्रसाद यादव को और विपक्षी दल के विधायकों को अशोभनीय भाषा का इस्तेमाल करके राजनीतिक मर्यादा को लांध रहे हैं , क्योंकि गत विधानसभा चुनाव में बिहार की जनता ने उनको तथा उनकी पार्टी को पूरी तरह से नकार कर यह साबित कर दिया कि बिहार में विकल्प के रूप में तेजस्वी प्रसाद यादव जैसा सशक्त और बेहतर सोच वाला नौजवान नेता है जो भाजपा और जदयू दोनों के खिलाफ मजबूती से लोहा लेने का काम किया और अपनी राजनीतिक कौशल को विधानसभा चुनाव में सिद्ध भी कर दिया जब राजद को सबसे बड़ी पार्टी के रूप में बिहार में स्थापित किया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.