कोरोना का बढ़ता प्रकोप :अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगा प्रतिबंध 30 अप्रैल तक बढ़ाया गया, दूसरे राज्यों से दिल्ली आने पर करानी होगी कोरोना जांच

0
66

दुनियाभर में लगातार बढ़ते कोरोना केसों के मद्देनजर केंद्र सरकार ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगा प्रतिबंध 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। इससे पहले भी केवल वंदे भारत मिशन के तहत चलने वाली स्पेशल इंटरनेशनल फ्लाइट्स की ही इजाजत थी। इनके अलावा मेडिकल और कार्गो फ्लाइट्स भी ऑपरेट की जा रही थीं।

इधर, दिल्ली सरकार ने सभी हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशनों, अंतरराज्यीय बस टर्मिनलों पर अन्य राज्यों से आने वाले यात्रियों की रैंडम टेस्टिंग (RAT / RT-PCR) अनिवार्य कर दी है। दिल्‍ली में सार्वजनिक स्थानों पर होली, शब-ए-बारात और नवरात्रि मनाने पर रोक लगा दी गई है। इस आदेश के तहत, त्योहारों के दौरान दिल्ली में किसी भी सार्वजनिक स्थान, पब्लिक ग्राउंड, पब्लिक पार्क मार्केट या धार्मिक स्थान में त्योहारों के दौरान सार्वजनिक उत्सव, लोगों के इकट्ठा होने और जलसा मनाने पर पाबंदी रहेगी। सभी जिला मजिस्ट्रेट और जिलो के DCP को आदेश को लागू करवाने के निर्देश दिए गए।

महाराष्ट्र के परभणी में फिर लॉकडाउन
देश में महाराष्ट्र का हाल सबसे बुरा है। दुनिया में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देशों के बाद महाराष्ट्र का ही नंबर आता है। राज्य में अब तक 25.04 लाख लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं और यह देश का सबसे संक्रमित राज्य है। राज्य में पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 28,699 पॉजिटिव केस सामने आए हैं और 132 लोगों की मौत हुई है। यह इस साल राज्य में संक्रमितों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। बढ़ते मामलों की वजह से परभणी जिले में 24 मार्च से 31 मार्च तक एक बार फिर से लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है।

उत्तर प्रदेश में जुलुस निकालने की मनाही
उत्तरप्रदेश में होली से पहले राज्य सरकार ने कुछ निर्देश जारी किए हैं। इनमें बिना पूर्व अनुमति के कोई जुलूस नहीं निकाल सकता है। 60 वर्ष से अधिक और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को किसी भी प्रकार के उत्सव में भाग लेने की अनुमति नहीं है। होली समारोह से पहले घर में प्रवेश करने से पहले मेहमानों को एक COVID-19 परीक्षा से गुजरना होगा, जबकि सरकारी, निजी और अर्ध-सरकारी स्कूलों में आठवीं कक्षा तक सभी कक्षाओं के लिए 24 से 31 मार्च तक की छुट्टी घोषित की गई है। 31 मार्च तक मेडिकल और नर्सिंग कॉलेजों को छोड़कर अन्य शैक्षणिक संस्थानों में भी छुट्टियां घोषित कर दी गई हैं, हालांकि, अगर संस्थानों में कोई परीक्षा चल रही है, तो उन परीक्षाओं को जारी रखा जाएगा।

कोरोना केस में आए उछाल के बाद गृह मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइन
कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर गृह मंत्रालय ने प्रभावी नियंत्रण के लिए दिशा-निर्देश जारी किया है। यह 1 अप्रैल से प्रभावी होगा और 30 अप्रैल 2021 तक लागू रहेगा। इसमें सभी राज्यों से टेस्ट, ट्रैकिंग और ट्रीट प्रोटोकॉल को सख्ती से लागू करने का निर्देश दिया गया है।

केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन के मुताबिक, राज्य सरकारें अपने हिसाब से राज्यों में प्रतिबंध लागू कर सकेंगी, लेकिन कोविड कंटेनमेंट जोन के बाहर किसी गतिविधि पर कोई पाबंदी नहीं लगाया जाएगा। इसमें कहा गया कि जिन राज्यों में RTPCR टेस्ट का अनुपात कम है, उन्हें तेजी से बढ़ाकर 70% या उससे अधिक कर देना चाहिए। नए पॉजिटिव मामलों को समय पर इलाज और क्‍वारंटीन करने की जरूरत है। इसमें कहा गया कि कोरोना के पॉजिटिव मामलों और उनके संपर्कों की ट्रैकिंग के आधार पर जिला अधिकारियों को कंटेंट जोन को चिन्हित करना होगा और उन्हें वेबसाइटों पर सूचित करना होगा।

महाराष्ट्र में अब तक 25.4 लाख लोग कोरोना की चपेट में
महाराष्ट्र में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। यहां कोरोना के बेकाबू हालात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनिया में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देशों के बाद महाराष्ट्र का ही नंबर आता है। राज्य में अब तक 25.04 लाख लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं और यह देश का सबसे संक्रमित राज्य है।

बीते दिन 40,611 संक्रमित मिले
देश में सोमवार को 40,611 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई, 29,735 ठीक हुए और 197 की मौत हो गई। इससे एक दिन पहले रविवार को 47,009 केस आए थे। बीते एक हफ्ते में पहली बार नए केस में गिरावट दर्ज की गई। इससे पहले 14 मार्च को 26,413 केस आए थे और इसके अगले दिन 24,437 मरीज संक्रमित पाए गए थे। 15 मार्च के बाद से इसमें लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही थी।

1 अप्रैल से 45 साल और उससे ऊपर के सभी लोगों को वैक्सीन लगेगी
देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच वैक्सीनेशन को लेकर बड़ी खबर आ रही है। एक अप्रैल से 45 साल और इससे ऊपर के सभी लोग कोरोना वैक्सीन लगवा सकेंगे। केंद्र सरकार ने मंगलवार को यह फैसला लिया। अब तक 45 से 60 साल के बीच सिर्फ गंभीर बीमारियों वाले लोगों को ही वैक्सीन दी जा रही थी।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि देश में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। लोगों को सिर्फ अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा और उन्हें आसानी से सरकारी और प्राइवेट सेंटर्स पर वैक्सीन मिल जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.