नहीं होगा किसी मंत्री का इस्तीफा! CM ठाकरे से देशमुख को मिली राहत

0
30

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपये की वसूली का आदेश देने के आरोप मामले में बुधवार को कई डेवलपमेंट्स हुए। देशमुख पर इल्जाम लगने के बाद और ट्रांसफर पोस्टिंग के रैकेट का खुलासा होने के बाद बुधवार को पहली बार चीफ मिनिस्टर उद्धव ठाकरे ने कैबिनेट की मीटिंग ली। कैबिनेट की मीटिंग में होम मिनिस्टर अनिल देशमुख भी शामिल हुए। 

जानकारी यह मिली है कि कैबिनेट की मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सभी अफसरों को रूम से बाहर भेज दिया और सिर्फ मंत्रियों के साथ बात की। कैबिनेट की मीटिंग के बाद NCP के नेताओं ने कहा कि मीटिंग में तय हुआ कि जिन अफसरों ने सरकार के खिलाफ साजिश रची, उनके खिलाफ एक्शन होगा। विपक्ष के दबाव में किसी मंत्री का इस्तीफा नहीं लिया जाएगा।

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा, “मुख्यमंत्री ठाकरे के निवास वर्षा बंगले पर शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं की बैठक हुई। बैठक में तय हुआ कि रश्मि शुक्ला के खिलाफ सरकार कार्रवाई करेगी। साथ ही जिन अधिकारियों के नाम रश्मि शुक्ला ने रिपोर्ट में लिए हैं, वह अधिकारी भी कानूनी कार्रवाई करेंगे, सरकार उनके साथ खड़ी रहेगी।”

नाना पटोले ने कहा, “बीजेपी नेताओं में राज्यपाल कोश्यारी से मुलाकात कर जो आरोप राज्य सरकार पर लगाए, उसके जवाब में कल (गुरुवार) कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के नेता मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में राज्यपाल से मुलाकात करेंगे और सरकार का पक्ष रखेंगे।”

गौरतलब है कि IPS रश्मि शुक्ला की रिपोर्ट के आधार पर भाजपा ने सरकार को घेरा है। पूर्व सीएम और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा रश्मि शुक्‍ला की रिपोर्ट सीएम उद्धव ठाकरे को भेजी गई थी लेकिन उन्होंने कोई ऐक्‍शन नहीं लिया। रिपोर्ट में बड़े पैमाने पर ट्रांसफर-पोस्टिंग में भ्रष्‍टाचार के ऑडियो सबूत बताए जा रहे हैं।

ऐसे में उद्धव ठाकरे कैबिनेट में इस बात की नाराजगी है कि बिना इजाजत फोन टैपिंग की गई। तत्कालीन गृह सचिव और मौजूदा राज्य के चीफ सेक्रेटरी सीताराम कुंटे ने भी बताया कि फोन टैपिंग की अनुमति नहीं ली गई थी। अब ज्यादातर मंत्री बिना इजाजत फोन टैपिंग करने के लिए रश्मि शुक्ला के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

हालांकि, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मामले में उचित जांच का भरोसा दिया है। संभावना है कि कल राज्य के मुख्य सचिव सीताराम कुण्टे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस मामले पर ज्यादा खुलासा करें।

बता दें कि रश्मि शुक्ला के खिलाफ कार्रवाई हो, इसके लिए जयंत पाटिल, अनिल देशमुख, दिलिप वलसे पाटिल, छगन भुजबल, जितेंद्र आह्वाड़, नवाब मलिक, शिबसेना से सुभाष देसाई और अनिल परब ने सीएम आवास पर उनसे मुलाकात भी की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.