पटना: विधानसभा अध्यक्ष ने विधायकों की पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई का निर्देश

0
58

बिहार विधानसभा में विपक्षी विधायकों की बर्बर पिटाई को लेकर देश भर में हो रही फजीहत पर जब नीतीश सरकार ने विधानसभा अध्यक्ष हो फंसा दिया तो अध्यक्ष एक्शन में आये हैं. घटना के 48 घंटे बाद विधानसभा अध्यक्ष ने बिहार सरकार के आलाधिकारियों से बात की है. विधानसभा अध्यक्ष ने विधायकों की पिटाई करने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई का निर्देश दिया है. वहीं, अध्यक्ष ने मंगलवार को सदन में हंगामा करने वाले विधायकों के खिलाफ भी जांच का आदेश दिया है.

एक्शन में विधानसभा अध्यक्ष
बिहार विधानसभा सचिवालय की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने बिहार के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद औऱ डीजीपी एस के सिंघल से बात की है. विधानसभा अध्यक्ष ने दोनों अधिकारियों को कहा है वे उन पुलिसकर्मियों की पहचान करें जिन्होंने मंगलवार को विधायकों के साथ दुर्व्यवहार किया. दोनों अधिकारियों को कहा गया है कि वे मामले की जांच कर रिपोर्ट पेश करें. ताकि विधानसभा अध्यक्ष उनके खिलाफ कार्रवाई का फैसला ले सकें.

विपक्षी विधायकों पर भी कार्रवाई
उधर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि लक्ष्मण रेखा पार करने की छूट किसी को नहीं दी सकती है. विधानसभा में मंगलवार को विपक्षी विधायकों ने जो आचरण किया उसकी भी जांच की जायेगी. विधानसभा की आचार समिति इस मामले की जांच करेगी और कार्रवाई की अनुशंसा करेगी. यानि विधायकों पर भी गाज गिराने की तैयारी हो रही है.

कौन सच्चा-नीतीश या विधानसभा अध्यक्ष
विधायकों को पीटने के मामले में विधानसभा अध्यक्ष के निर्देश के बाद ये साबित हो गया है कि पुलिसकर्मियों ने विधायकों के साथ ज्यादती की. हालांकि कल तक नीतीश कुमार ये कह रहे थे कि पुलिस ने कुछ गलत नहीं किया. नीतीश विपक्षी विधायकों पर ही सारा आरोप मढ रहे थे. लेकिन आज विधानसभा अध्यक्ष ने जांच का जो आदेश दिया है उससे साफ हो गया है कि पुलिसकर्मियों ने विधायकों के साथ दुर्व्यवहार किया. विधानसभा अध्यक्ष ने अपने निर्देश में पुलिसकर्मियों के दुर्व्यवहार का जिक्र किया है. सवाल ये उठ रहा है कि फिर सच कौन बोल रहा है विधानसभा अध्यक्ष या बिहार के मुख्यमंत्री.

सरकार ने फंसाया तब एक्शन में आये स्पीकर
दरअसल विधानसभा के स्पीकर तब एक्शन में आये जब विधायकों की बर्बर पिटाई के मामले में नीतीश सरकार ने उन्हें ही फंसा दिया. कल नीतीश कुमार ने बार बार कहा कि विधानसभा में पुलिस ने जो किया वह विधानसभा अध्यक्ष के कहने पर किया. आज बिहार सरकार के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद औऱ डीजीपी एस के सिंघल ने भी कहा कि पुलिस ने वही किया जो विधानसभा अध्यक्ष ने कहा. दोनों अधिकारियों ने कहा कि पुलिस विधानसभा अध्यक्ष के निर्देश पर काम कर रही थी. 

जाहिर है बिहार सरकार ने विधानसभा अध्यक्ष को ही इस पूरे मामले में फंसा दिया. जबकि हकीकत कुछ औऱ थी. विधानसभा में मंगलवार को चुन चुन कर वैसे पुलिस अधिकारी भेजे गये थे जो सरकार के खास माने जाते हैं. पटना शहर में दर्जनों एसपी, एएसपी औऱ डीएसपी की तैनाती होने के बावजूद शहर के बाहर के पुलिस पदाधिकारियों को बुलाया गया था. पटना के बाहर से बुलाये गये एक एएसपी ने सदन के अंदर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव तक से हाथापाई की थी. विधायकों की पिटाई का वीडियो पूरे देश में वायरल है. इससे विधानसभा अध्यक्ष की भारी फजीहत हो रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.