होली का त्योहार जितना रंगबिरंगा होता है, हमारे जीवन में भी उतने ही रंग भर सकता है। यह एक ऐसा त्योहार है जो आपकी बड़ी से बड़ी समस्या को दूर कर सकता है, बुरे वक्त को अच्छे में बदल सकता है और आपके रूठे भाग्य को भी जगा सकता है। बस आपको पता होने चाहिए होली के ये चमत्कारिक उपाय, जो आपकी हर समस्या को दूर कर सके। जानिए ऐसे अचूक उपाय –

1 अगर आप मानसिक तनाव से ग्रसित हैं और आपकी आर्थ‍िक और पारिवारिक परिस्थितियां ठीक नहीं है, तो होली की रात चन्द्रमा को दूध का अर्घ्‍य देकर कोई सफेद मिष्ठान अर्पण करें। ऐसा करने आर्थिक और पारिवारिक समस्या का निदान होता है और मानसिक शांति भी प्राप्त होती है।

2 घर-परिवार में किसी भी प्रकार का दोष होने पर, होलिका दहन में सभी घर वालों को शामिल होना चाहिए और तीन परिक्रमा लेते हुए पीली सरसों, अलसी और गेहूं की बालियां अग्नि में डालनी चाहिए। इससे नज़र दोष दूर होगा और ग्रह अनुकूल होंगे, जिससे घर में शुभता आएगी।
3 अगर आप किसी रोग से ग्रसित हैं, तो इस पीड़ा को शांत करने के लिए होली वाले दिन एक पान का पत्ता, एक गुलाब का ताज़ा फूल और कुछ बताशे लेकर रोगी के ऊपर से 31 उतार लें और उतारने के बाद इसे किसी चौराहे पर रखकर आ जाएं। आते वक्त पीछे मुड़कर न देखें।
4 कोई कोर्ट केस में समस्या आ रही हो, तो जलती हुई होलिका की राख लेकर एक लोहे की कील से अपने केस नंबर और शत्रु का नाम एक कागज पर लिख दें और उसे होलिका की अग्नि में दहन कर दें। आपको केस से निजात मिल जाएगी।
5 रोजगार की समस्या हो तो होली वाली रात को एक नींबू लेकर किसी चौराहे पर जाएं और उसे काट कर चार टुकड़े कर दें। उसके बाद इन चारों दिशाओं में एक-एक टुकड़ा फेंक दें और घर वापस जाएं।बस आते वक्त पीछे मुड़कर न देखें।

6 विवाह में समस्या आ रही हो, तो इसे दूर करने के लिए होली वाले दिन एक पान के पत्ते पर एक सुपारी और एक हल्दी की गांठ रखकर शिवलिंग पर अर्पित कर दें और श्री शिव दारिद्र दहन स्तोत्र का पाठ करें।

7 आर्थिक संकट से छुटकारा पाने के लिए होलिका दहन के समय श्री सूक्तम का पाठ करते हुए शक्कर की आहुति दें। अभीष्ट कार्य की सिद्धि के लिए तीन गोमती चक्र लेकर अपनी प्रार्थना को बोलते हुए अग्नि में डालकर प्रणाम करें।
8 होलिका की भस्म का टीका करने से नज़र दोष, ग्रहबाधा और प्रेतबाधा से मुक्ति मिलती है।
9 होलिका दहन के बाद बची हुई राख को अपने घर लाकर एक लाल कपडे में बांध कर अपनी तिजोरी में रखने से बरकत आती है और अनावश्यक खर्चे रुकते हैं।
10 अपने इष्ट देवता /कुल देवी/देवता के साथ होली खेलने से भी सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। इसलिए होली के अवसर पर सबसे पहले उन्हें रंग अर्पित करें।


नोट
: जो उपाय परंपरागत रूप से चले आ रहे हैं उन्हें ही एकत्र कर यहां जानकारी के रूप में प्रस्तुत किया गया है। पाठक स्वविवेक से निर्णय लें
, इनकी सांध्य प्रवक्ता खबर कोई जिम्मेदारी नही लेता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.