दीदी के ‘स्क्रू ढीला’ बयान पर पीएम मोदी ने साधा निशाना, कहा- हैरान हूं कि दीदी को हो क्या गया है

0
102

पश्चिम बंगाल के जयनगर में गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। पहले चरण में हुई बंपर वोटिंग को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि दीदी रक्त का खेला नहीं चलेगा। दीदी की भाषा और शब्द चर्चा का विषय बने हुए हैं। दीदी ने चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा किया। दीदी को तिलक और भगवा कपड़ो से दिक्कत है। दीदी को जय श्री राम के नारों से दिक्कत होती है। पीएम मोदी ने कहा कि दीदी मुझे गाली देना है तो दीजिए बंगाल की आस्था पहचान को गाली नहीं देने दूंगा। भारत का संविधान ये अपमान करने की इजाजत नहीं देता। ममता ने कहा कि स्क्रू ढीला हो गया। दीदी के इस बयान को लेकर मैं हैरान हूं कि दीदी को हो क्या गया है? देश के संविधान का अपमान न करें ममता बनर्जी।

दीदी तृणमूल कूल नहीं बंगाल के लिए शूल है- मोदी

पीएम मोदी ने आगे कहा कि बंगाल की लूट का दूसरा नाम ‘खेला होबे’ है। दीदी घुसपैठियों को खुश करने के चक्कर में बंगाल को भूल गईं । धमकी और गाली देनी वाली दीदी अब कह रही हैं कि कूल..कूल। दीदी तृणमूल कूल नहीं बंगाल के लिए शूल है, बंगाल को असहनीया पीड़ा देना वाला तृणमूल शूल है, बंगाल को रक्तरंचित करने वाला शूल है, बंगाल के साथ अन्याय करने वाला तृणमूल शूल है। शोवा मजूमदार जी बंगाल की उन अनगिनत माताओं, उन अनगिनत बहनों का चेहरा थीं जिन पर तृणमूल के लोगों ने अत्याचार किया। शोवा जी का वो चेहरा मेरी आंखों से उतरता नहीं है। जब मैं ऐसे अपराध के बाद दीदी को कूल-कूल कहते देखता हूं तो मुझे बहुत कष्ट होता है।

पश्चिम बंगाल के जयनगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बंगाल में पहले चरण में हुए शांतिपूर्ण और रिकॉर्ड मतदान में लोगों ने बीजेपी को भारी समर्थन दिया है। पहले चरण में जिस तरह की दमदार शुरुआत बीजेपी ने की है, बंगाल में बीजेपी की जीत का आंकड़ा 200 के भी पार जाएगा। दीदी की सरकार ने सुंदरबन जैसे पर्यटन समृद्ध क्षेत्र को, यहां के द्वीपों का, यहां के तटों का विकास नहीं किया। सोनार बांग्ला के लक्ष्य के साथ भाजपा की डबल इंजन सरकार यहां कनेक्टिविटी को प्राथमिकता देगी। गंगासागर की महिमा को, गंगासागर मेले की भव्यता और दिव्यता को बंगाल की भाजपा सरकार नई ऊंचाई पर ले जाएगी।

पीएम मोदी ने कहा कि टीएमसी सरकार की नीतियों का बहुत बड़ा नुकसान हमारे किसान भाई-बहनों ने उठाया है। दीदी की मनमानी की वजह से बंगाल के लाखों किसान, पीएम किसान सम्मान निधि के लाभ से वंचित हैं। कोरोना काल में भाजपा सरकार ने मुफ्त चावल भेजा, तो उसमें कटमनी। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पूरे देश में करोड़ों घर बने। बंगाल में केंद्र सरकार ने 30 लाख से ज्यादा घर, गरीबों के लिए स्वीकृत किए हैं। लेकिन कटमनी के कारण यहां अनेक गरीबों के घर अधूरे पड़े हैं। तृणमूल की टोलाबाजी ने गरीब, मध्यमवर्ग, उद्यमी, सभी का जीना दुश्वार किया है। घर बनता है, तो उसमें कटमनी। बच्चों के एडमिशन, जॉब की एप्लीकेशन में कटमनी। होमलोन, एजुकेशन लोन, अस्पताल में एडमिशन, हर जगह कटमनी। गरीबों, पिछड़ों को इस स्थिति ने सबसे ज्यादा परेशान किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.