जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया, कल BJP नेता के घर पर हमले में थे शामिल

0
42

जम्मू-कश्मीर में गुरुवार को भाजाप नेता के घर हुए हमले में शहीद हुए एक जवान की शहादत का बदला भारतीय सुरक्षाबलों ने ले लिया है। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मुठभेड़ में मार गिराया है। शुक्रवार सुबह से ही यह मुठभेड़ जारी थी। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के काकापोरा इलाके में आतंकियों की मौजूदगी की खबर पर सुरक्षा बलों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया था। इसी दौरान तीनों आतंकियों को घेरने में कामयाबी मिली और लंबी चली मुठभेड़ के बाद इन्हें मार गिराया गया। सुरक्षाबलों पर आतंकियों की ओर से लगातार फायरिंग की जा रही थी। फिलहाल ऑपरेशन जारी है।

कश्मीर के आईजीपी विजय कुमार ने कहा कि पुलवामा एनकाउंटर में मारे गए ये तीनों आतंकी भाजपा नेता के घर पर हुए हमले में शामिल थे। इनके पास से हथियार भी बरामद किए गए हैं। बता दें कि सुबह से ही पुलवामा में सुरक्षाबलों ने आतंकियों को घेर रखा था। पुलिस के मुताबिक, ऑपरेशन के दौरान पुलिस कर्मियों पर गोलियां चला दी गईं, जिसके बाद उन्होंने भी जवाबी कार्रवाई की और दोनों तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई। अधिकारी ने बताया कि सुबह से ही दोनों ओर से गोलीबारी अब भी जारी थी। 

दरअसल, गुरुवार को जम्मू-कश्मीर की श्रीनगर के बाहरी इलाके में स्थानीय भाजपा नेता पर लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों ने हमला किया था, जिसमें एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया था। पुलिस ने बताया कि चार में से एक आतंकवादी बुर्का पहनकर आया था और अरिगाम नौगाम स्थित भाजपा नेता अनवर अहमद से मिलने का अनुरोध किया था। अधिकारी ने बताया कि बारामूला जिले के भाजपा महासचिव एवं कुपवाड़ा जिले के प्रभारी अहमद घटना के समय मकान में मौजूद नहीं थे।

क्या हुआ था कल

अधिकारी ने बताया कि जैसे ही संतरी ने दरवाजा खोला आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी जिससे संतरी की मौत हो गई। संतरी की पहचान रमीज रजा के तौर पर हुई है। रजा को एसएमएचएस अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अधिकारी ने बताया कि अंदर मौजूद अन्य गार्ड द्वारा जवाबी कार्रवाई किए जाने के डर से आतंकवादी भाजपा नेता के घर पर नहीं होने की सूचना मिलने पर भाग गए। हालांकि वे एसएलआर राइफल लूट ले गए।
यह घटना उत्तरी कश्मीर स्थित बारामूला जिले के सोपोर में ब्लॉक विकास परिषद (बीडीसी) के सदस्य एवं उसके सुरक्षा गार्ड की आतंकवादियों द्वारा हत्या करने के तीन दिन बाद हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.