हेल्थ: महीने भर में निकल जाएगा चश्मा, रोज खाएं यह एक चीज

0
312

भारतीय परिवारों में रसोई घर में खाना बनाने में ज्‍यादातर महिलाएं काली मिर्च (black pepper) का प्रयोग करती हैं। इसके इस्तेमाल से खाने का स्वाद तो बढ़ता ही है, पकवान के जायका भी बढ़ जाता है। हालांकि, काली मिर्च के फायदे ज्यादातर लोग जानते ही होंगे, लेकिन क्या आप सफेद मिर्च से होने वाले फायदों के बारे में जानते हैं? सफेद मिर्च को लोग ‘दखनी मिर्च’ के नाम से भी जानते हैं। सफेद मिर्च स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी होती है। 

चिकित्सा की दुनिया में भी सफेद मिर्च का उपयोग इसमें मौजूद फ्लेवोनोइड और विटामिन जैसे इसके एंटीऑक्सीडेंट गुणों की वजह से किया जाता है। पुराने समय में जब किसी व्यक्ति को आंखों की समस्या हो जाती थी, तो बड़े बुजुर्ग ‘दखनी मिर्च’ को बादाम के साथ लेने की सलाह देते थे। ऐसा इसलिए क्योंकि ‘दखनी मिर्च’ के अंदर एंटीऑक्सीडेंट गुण और कई विटामिन्स भी पाए जाते हैं, जो न सिर्फ आंखों की सेहत को तंदुरुस्त बनाते हैं, बल्कि सिरदर्द, मधुमेह की समस्या, पाचन की समस्या, हाई ब्लड प्रेशर आदि की समस्या को भी दूर करते हैं।

आइए जानें सफेद मिर्च से होने वाले फायदे के बारे में-

जिन लोगों को आंखों में दिक्कत रहती है या आंखों की पावर लगातार घट-बढ़ रही है। तो ऐसे में सफेद मिर्च का सेवन करना बेहद फायदेमंद बताया जाता है। इसका पाउडर बनाकर इसका नियमित थोड़ा-थोड़ा इस्तेमाल करने से आंखों की रोशनी नहीं घटती है। ये मोतियाबिंद जैसी समस्याओं के लिए भी उपयोगी माना जाता है।

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और आपका शुगर लेवल कंट्रोल नहीं हो रहा है, तो ऐसे में आपको सफेद मिर्च का सेवन जरूर करना चाहिए। कहते हैं कि इसके रोजाना सेवन से शुगर लेवल कंट्रोल हो सकता है।

सर्दी और खांसी की समस्या होने पर अगर आप इसका इस्तेमाल करते हैं, तो इस समस्या के लिए ‘दखनी मिर्च’ रामबाण है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटीबायोटिक गुण मौजूद होते हैं, जो शरीर के अंदर गर्मी पैदा करके सर्दी में होने वाली समस्याओं से छुटकारा दिला सकते हैं।

सफेद मिर्च में मौजूद कैप्सेसिन शरीर के अंदर फैट को जलाने में मदद कर सकती है, और इस तरह ये वजन को कम करने में मदद करती है। इसका कारण वजन घटाने वाली कैप्सेसिन की मौजूदगी है।

अगर आपके जोड़ों में दर्द (joints pain) रहता है, तो नियमित रूप से सफेद मिर्च का सेवन करने से आपको फायदे हो सकते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में फ्लेवोनोइड और कैप्सेसिन तत्व मौजूद होते हैं, जो गठिया के साथ मांसपेशियों की सूजन और दर्द को दूर करने में सहायक होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.