स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइंस, इस उम्र के बच्‍चों को नहीं पहनाएं मास्‍क

0
37

दुनिया के हर देश में कोरोना महामारी को रोकने के लिए मास्‍क को अनिवार्य बताया गया है, लेकिन केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जिसमें पांच साल से कम उम्र के बच्चों के लिए कोरोना वायरस बीमारी (कोविड-19) को रोकने के लिए मास्क पहनने को कहा गया है। भले ही मास्‍क पहनना वयस्कों के लिए आवश्यक समझा जाता है।

समाचार एजेंसी एएनआई ने दिशानिर्देशों का हवाला देते हुए कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस) द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, छह से 11 साल के बच्चे मास्क पहन सकते हैं, लेकिन वह भी केवल माता-पिता और परामर्श चिकित्सक की देखरेख में। हाल की सिफारिशें 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में कोरोना वायरस रोग से संबंधित हैं।

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस) के दिशानिर्देशों के अनुसार, 5 वर्ष या उससे कम उम्र के बच्चों के लिए मास्क की सिफारिश नहीं की जाती है। 6-11 वर्ष की आयु के बच्चे माता-पिता और डॉक्टर की देखरेख में मास्क पहन सकते हैं। डीजीएचएस द्वारा जारी नए दिशानिर्देश 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में एंटीवायरल दवा रेमेडिसविर के उपयोग के साथ-साथ इस आयु वर्ग के बच्चों के बीच एचआरसीटी इमेजिंग के “तर्कसंगत उपयोग” के खिलाफ भी सिफारिश करते हैं।

डीजीएचएस कोरोना वायरस बीमारी के संबंध में अपने प्रबंधन प्रोटोकॉल में संशोधन कर रहा है। इसने वयस्कों को कोविड-19 उपयुक्त व्यवहार का पालन करने के महत्व पर भी जोर देते हुए मास्‍क पहनना और सोशल डिस्‍टेंसिंग, हाथ की स्वच्छता और खांसी में शिष्टाचार का पालन करना करने को कहा कि स्पर्शोन्मुख, हल्के, मध्यम और गंभीर रोगियों द्वारा इसका पालन किया जाना चाहिए।

डीजीएचएस द्वारा 27 मई को जारी संशोधित दिशा-निर्देशों में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन, आइवरमेक्टिन, डॉक्सीसाइक्लिन, जिंक, मल्टीविटामिन आदि सहित सभी दवाएं बिना लक्षण वाले या हल्के लक्षण वाले कोविड-19 रोगियों के लिए डॉक्टरों द्वारा इन निर्धारित दवाओं को ना देने की सिफारिश की गई हैं। डॉक्टरों को यह भी कहा गया है कि वे सीटी स्कैन जैसे कोविड-19 रोगियों को अनावश्यक परीक्षण न करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.