पटना: पूर्व सांसद अरूण कुमार ने PM को लिखी चिट्ठी, कहा-दलित नेतृत्व की हत्या का कलंकित रामायण मत रचिये

0
51

नरेंद्र मोदी जी, जब नीतीश कुमार ने आपको राजनीतिक अछूत बना दिया था. बिहार में आपके घुसने पर रोक लगा दिया था. आपके नाम पर बीजेपी के सारे नेताओं का पत्तल खींच लिया था. तब चिराग पासवान ही थे जिन्होंने आपको गले लगाया था. आज उसी चिराग पासवान की राजनीतिक हत्या की साजिश रची जा रही है. नरेंद्र मोदी जी, आप मूकदर्शक मत रहिये. अगर आप खामोश रहे तो दलित नेतृत्व की हत्या का रामायण फिर से लिखा जायेगा. हमारी भारतीय संस्कृति फिर से कलंकित हो जायेगी.

अरूण कुमार की पाती नरेंद्र मोदी के नाम
उपर लिखी बातें उस पत्र का हिस्सा है जो पूर्व सांसद अरूण कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है. चिराग पासवान के प्रकरण पर अरूण कुमार ने प्रधानमंत्री को इमोशनल पत्र लिखा है. सारे पुराने वाकयों की याद दिलायी है और नीतीश कुमार की साजिश का हिस्सा नहीं बनने का अनुरोध किया है. याद है जब नीतीश कुमार ने आपको अछूत बना दिया था.

अरूण कुमार ने अपने पत्र में लिखा है कि नरेंद्र मोदी को याद होगा कि कैसे नीतीश कुमार ने उन्हें राजनीतिक अछूत बना दिया था. 2010 के विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को बिहार में घुसने पर रोक लगा दिया था. बीजेपी भी नीतीश कुमार के सामने नतमस्तक हो गयी थी औऱ नरेंद्र मोदी को बिहार में आने से मना कर दिया गया था. अरूण कुमार ने अपने पत्र में लिखा है कि उस चुनाव के बाद जब नरेंद्र मोदी बीजेपी की बैठक में भाग लेने बिहार आये थे तो उनके नाम पर नीतीश कुमार ने तमाम बीजेपी नेताओं का पत्तल खींच लिया था. 

जब आप अछूत थे तो चिराग ने गले लगाया था
अरूण कुमार ने अपने पत्र में लिखा है कि नीतीश कुमार जब नरेंद्र मोदी को अछूत बना रहे थे तो उन्होंने सबसे पहले इसके खिलाफ आवाज उठायी थी. अरूण कुमार ने तब रालोसपा बनायी थी जिसने 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने की मुहिम चलायी थी. उसके बाद चिराग पासवान ही थे जिन्होंने नरेंद्र मोदी को राजनीतिक अछूत बनाने की नीतीश कुमार की कोशिशों को जवाब दिया था. अरूण कुमार ने अपने पत्र में तब लोक जनशक्ति पार्टी ने ही नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने का एलान कर दिया था.

दलित नेतृत्व की हत्या का रामायण मत रचिये
अरूण कुमार ने अपने पत्र में लिखा है कि आज जब रामविलास पासवान जी इस दुनिया में नहीं हैं तो नीतीश कुमार अपने प्रिय पहलवान ललन सिंह के जरिये चिराग पासवान की राजनीतिक हत्या कराना चाहते हैं. नीतीश ये भी चाहते हैं कि स्व. रामविलास पासवान के बेटे की राजनीतिक हत्या के इनाम में बीजेपी जेडीयू के कुछ लोगों को मंत्रिमंडल में जगह दे. 

अरूण कुमार ने लिखा है कि चिराग पासवान ने खुद को नरेंद्र मोदी का हनुमान बताया था. उन्हें विश्वास है कि नरेंद्र मोदी चिराग पासवान की हत्या के दौरान मूकदर्शक नहीं बने रहेंगे. अगर ऐसा हुआ तो भारतीय संस्कृति कलंकित होगी. देश की परंपरा में एक बडे दलित नेतृत्व की हत्या का रामायण जुड़ जायेगा.  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.