दरभंगा ब्लास्ट : सलीम और कफील को लेकर पटना पहुंची NIA, चारों आरोपियों को आमने-सामने बैठकर करेगी पूछताछ

0
124

दरभंगा ब्लास्ट मामले में हैदराबाद से मलिक ब्रदर्स की गिरफ्तारी के बाद NIA उत्तर प्रदेश के शामली के कैराना से दो और आरोपी सलीम और कफील को गिरफ्तार कर पटना एयरपोर्ट पहुंची है. यहां से दोनों को कड़ी सुरक्षा के बीच पहले कोरोना टेस्ट के लिए गार्डिनर हॉस्पिटल ले जाया गया है. इसके बाद सीधा उन्हें ATS ऑफिस ले जाया जाएगा. इधर ATS ऑफिस में कल पटना लाये गए मालिक ब्रदर्स को भी लाया गया है. चारों आरोपियों को आमने-सामने बैठकर पहले NIA की पूछताछ करेगी उसके बाद NIA कोर्ट में इनकी पेशी होगी.

बता दें कि शुक्रवार को NIA की टीम मलिक ब्रदर्स को हैदराबाद से पटना लेकर आई थी. इमरान मलिक और नासिर मलिक का कनेक्शन लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठन के साथ से जुड़े होने की बाद सामने आते ही दोनों की गिरफ्तारी के बाद इन दोनों भाइयों को लेकर आज एनआईए की टीम सीधे हैदराबाद से पटना पहुंची थी. इनकी ही निशानदेही पर शामली के सलीम और कफील का ब्लास्ट में शामिल होने का पता NIA को चला था जिसके बाद शामली से आज उन्हें भी गिरफ्तार कर पटना लाया गया है. 

जानकारी हो कि एनआईए की टीम ने कैराना के रहने वाले सलीम से भी पूछताछ की थी. पूछताछ में सलीम ने कई अहम खुलासे किए थे. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सलीम ने बताया था कि कैसे पाकिस्तान में बैठे आतंकी संगठन भारत की तबाही का प्लान तैयार कर रहे हैं. सलीम ने एनआईए के सामने जो खुलासे किए उसके बाद उसकी और कफील नाम के एक शख्स की गिरफ्तारी कर ली गई है. आतंकी संगठन भारत में तबाही मचाने के लिए इकबाल काना को संपर्क किया था. इकबाल काना यूपी के शामली का रहने वाला है. 

दरभंगा ब्लास्ट मामले के तार पाकिस्तान से उस वक्त जुड़ गए जब हैदराबाद से इमरान और नासिर मलिक की गिरफ्तारी हुई. इन दोनों की गिरफ्तारी के बाद कई अहम खुलासे हुए. साजिश के तार पाकिस्तान से कैसे जुड़े इसकी जानकारी लगी. पाकिस्तान से हवाला के जरिए शामली में रहने वाले सलीम को पैसे दिए गए और धमाके के बाद उसे करोड़ों रुपए मिलने वाले थे. पाकिस्तान से आईएसआई के हैंडलर ने मोबाइल के जरिए लगातार इमरान को लिक्विड बम बनाने का वीडियो भेजा और उसी वीडियो को देखकर लिक्विड बम बनाया गया था. एनआईए इस पूरी जांच को केवल दरभंगा तक सीमित नहीं रखना चाहता. उसका मकसद है कि इस आतंकी नेटवर्क में शामिल सभी लोगों को सलाखों के पीछे भेजा जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.