निवेश प्रस्ताव हासिल करने में बिहार सबसे आगे, निवेशकों का बढ़ रहा विश्वास: शाहनवाज

0
95

कोरोनाकाल में निवेश प्रस्ताव हासिल करने में बिहार सबसे आगे हैं। बिहार में उद्योगों के लिए ऐतिहासिक प्रस्ताव आए जिसे देखकर यह कहा जा सकता है कि अब बिहार की तस्वीर बदलेगी। राज्य में कुल 33 हजार 972.52 करोड़ के निवेश का प्रस्ताव आया। इथेनॉल उद्योग लगाने के लिए कुल 30,008.45 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्तावों को स्वीकृति मिली है। इस बात की जानकारी उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने दी। उन्होंने बताया कि कोरोनाकाल में निवेश प्रस्ताव हासिल करने में बिहार सबसे आगे रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश के अनुभव और सुशासन पर निवेशकों ने पूरा भरोसा जताया। डबल इंजन की सरकार बिहार में बेहतर काम कर रही है।

बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कहा कि देश में पहली बार किसी राज्य द्वारा बनाई गई इथेनॉल पॉलिसी बिहार इथेनॉल उत्पादन और प्रोत्साहन पॉलिसी 2021 को ऐतिहासिक और अप्रत्याशित सफलता हासिल हुई है। बिहार में उद्योगों की स्थापना को लेकर देशभर के छोटे-बड़े उद्योगपतियों की प्राथमिकता सूची में बिहार ने ऊपरी पायदान पर जगह बना ली है।

30 जून 2021 को खत्म हुई इथेनॉल पॉलिसी को लेकर निवेशकों ने उम्मीद से कई गुणा बेहतर रुझान दिखाए हैं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में मौजूदा एनडीए सरकार में अब तक 33 हजार 972.52 करोड़ रुपए (33,972.52 करोड़) के निवेश प्रस्तावों को स्टेट इंडस्ट्रियल प्रोमोशन बोर्ड (SIPB) द्वारा हरी झंडी दे दी गई है। इतने निवेश से बिहार में इथेनॉल से लेकर सभी तरह के उद्योगों के लिए कुल 384 औद्योगिक इकाईयों की स्थापना होगी। 

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि पूर्व में 14 जून 2021 को हुई SIPB बैठक और 30 जून 2021 को हुई SIPB बैठक में कुल 19304.26 करोड़ (19 हजार 304.26 करोड़) के निवेश प्रस्तावों को स्टेज 1 क्लीयरेंस दिया गया था। 6 जुलाई 2021 यानी मंगलवार को हुई SIPB की 31वीं बैठक में 14,668.26 करोड़ ( 14 हजार 668.26 करोड़ ) के निवेश प्रस्तावों को हरी झंडी दी गई।

बिहार की मौजूदा एनडीए सरकार में अब तक कुल 33 हजार 972.52 करोड़ रुपए के निवेश प्रस्ताव आने पर बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने प्रसन्नता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उम्मीदों पर वो 100 फीसदी खरा उतरेंगे। बिहार की 14 करोड़ जनता का विश्वास और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का आशीर्वाद उनके साथ है। बिहार में रोजगार, स्वरोजगार और उदयोगों के विकास का जो वादा किया गया है वो मुख्यमंत्री नीतीश के मौजूदा कार्यकाल में पूरा होकर रहेगा। 

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार देश का पहला राज्य है जो इथेनॉल उत्पादन उद्योगों को ने  बढ़ावा देने के लिए इथेनॉल पॉलिसी लेकर आया और इस पॉलिसी ने देश के निवेशकों का अभूतपूर्व विश्वास हासिल किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके साथ केंद्र में किए काम के आधार पर उनपर पूरा भरोसा किया और पूरे देश के निवेशकों ने मुख्यमंत्री नीतीश के अनुभव और सुशासन पर भरोसा जताया। 

कोरोना काल में बिहार निवेश प्रस्ताव हासिल करने में सबसे आगे है। सिर्फ इथेनॉल उद्योग लगाने के लिए कुल 30,008.45 करोड़ ( 30 हजार 008.45 करोड़ रुपए के निवेश प्रस्तावों को स्टेज 1 क्लीयरेंस दिया गया है। इतने निवेश से बिहार में 147 इथेनॉल औद्योगिक इकाईयों की स्थापना होगी।” उन्होंने कहा कि “बिहार की डबल इंजन की सरकार पर निवेशकों का जबरदस्त भरोसा कायम हुआ है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार के औद्योगिक विकास के संकल्पों से निवेशक अच्छी तरह वाकिफ हैं और उन्हें पूरा भरोसा है कि किसी भी उद्योग को सफल करने के लिए जिस तरह का माहौल, राज्य सरकार और प्रशासन से सहयोग उन्हें चाहिए, वो सब यहां बिहार में उन्हें मिलेगा।”

बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार में संभावनाओं के द्वार खुल चुके हैं। उनका उद्योग विभाग पूरी मुस्तैदी और पैनी दृष्टि के साथ बिहार के बहुमुखी विकास के लिए कई तरह की नीतियों पर सुधारात्मक रुख के साथ काम कर रहा है। बिहार की उम्मीदें पूरी करने के लिए इथेनॉल पॉलिसी के बाद टेक्सटाइल, लेदर, हैंडलूम, गार्मेंट्स पॉलिसी 2021, लॉजिस्टिक्स पॉलिसी 2021, फार्मा पॉलिसी 2021 लाने की उनकी तैयारी चल रही है। उन्होंने कहा कि हमारी पूरी कोशिश है कि यहां वैसे उद्योग लगे जिनमें रोजगार सृजन की संभावना सबसे अधिक हो और बिहार में उद्योगों के लिए ऐसा इकोसिस्टम तैयार हो जाए जो कि आने वाले कई दशकों तक यहां उद्योगों को स्वतः बढ़ावा देता रहे।

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार की ड्राफ्ट टेक्सटाइल पॉलिसी 2021 पर टेक्सटाइल और गारमेंट्स सेक्टर के देश के बड़े और नामी उद्योगपतियों से सुझाव लेने का काम शुरू कर चुके हैं। पिछले दिनों उन्होंने मुंबई में सिंथेटिक और रेयॉन सेक्टर के कारोबारियों से मुलाकात की थी। उससे पहले दिल्ली में गारमेंट्स मैनुफैक्चरिंग के बड़े कारोबारियों से मिलकर उनका सुझाव प्राप्त किया था। 

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार के पिछले कार्यकाल में बिहार ने सड़क, बिजली, सुरक्षा समेत ‘जरुरी इज ऑफ डूइंग बिजनेस’ और राज्य में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा देने के लिए अनुकूल माहौल तैयार करने पर बहुत काम किया जिसका फायदा मिल रहा है। बिहार की छवि बदल चुकी है। बिहार पर भरोसा कायम हो चुका है। अब निवेशकों के भरोसे को निवेश में तब्दील करने का और औद्योगिक बिहार के सपने को पूरा करने का यह वक्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.