मोतिहारी: CBI का फर्जी SP गिरफ्तार:पढ़ाई में कमजोर होने के कारण नहीं बन सका IPS

0
48

बिहार के मोतिहारी जिले में पुलिस ने गुरुवार को एक युवक को अरेस्ट किया है। वह खुद को CBI का एसपी बताता था और पुलिस पर दबाव डालकर अपना काम कराता था। साथ ही बेरोजगार युवकों से नौकरी दिलाने के नाम पर पैसा भी ऐंठता था। पुलिस के कबूलनामे में उसने कहा है कि मुझे बचपन से IPS बनने का शौक था, लेकिन पढ़ाई में कमजाेर होने के कारण नहीं बन पाया। इसके बाद हमने फर्जी SP बनने का प्लान बनाया। बुधवार को लौरिया प्राथमिक स्कूल में जाकर अपने को CBI एसपी बताया और पैसा मांगने लगा। इस पर लोगों को शक हुआ। पुलिस को शिकायत कर दी। फिर पुलिस ने जांच की तो वो जालसाज निकला। इसके बाद उसे पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है।

फ़र्ज़ी एसपी अमोल कुमार

जांच में पता चला कि एक बार काम नहीं होने पर उसने मलाही और गोविंदगंज पुलिस की शिकायत ASP और DSP से की थी। इसके बाद पुलिस के आला अफसरों को शक होने पर छानबीन की गई तो वो जालसाज निकला।

मोतिहारी एसपी नवीन चन्द्र झा ने बताया कि आरोपी युवक का नाम अमोल कुमार है। वह मोतिहारी जिले का ही रहने वाला है। उसकी गिरफ्तारी गोविंदगंज थाना क्षेत्र के राजेपुर गांव से हुई है। पुलिस ने उसके पास से 5.60 लाख रुपए, CBI का फर्जी आईकार्ड, फर्जी अपॉइंटमेंट लेटर, फर्जी परमिशन लेटर, CBI का फर्जी सील, CBI एसपी की फर्जी मुहर, भारत सरकार की फर्जी मुहर, पूर्व मुख्यमंत्री का फर्जी पत्र, CBI का सीलबन्द लिफाफा बरामद किया है।

ऐसा कोई नहीं, जिसको ठगा नहीं

लोगों और लोकल अफसरों पर अपना धौंस जमाने के लिए उसने राष्ट्रपति से लेकर मुख्यमंत्री तक का लेटर पैड बनवा लिया था। समय-समय पर वह लोगों को दिखाता था और अपना काम करा लेता था। पुलिस की पूछताछ में उसने बताया कि पहली बार जालसाजी करने में झिझक हुई, लेकिन उसमें जब सफलता मिल गई तो मजा आने लगा। उसने कहा, ‘बिहार में बेरोजगारी बहुत है। युवा नौकरी के लिए परेशान हैं। बिहार में कोई काम बिना पैसा दिए नहीं होता है, ऐसे में उन्हें फंसाना आसान है। वो जल्दी से बात मान जाते हैं। पुलिस ने उसके पास से कई अभ्यर्थियों का पत्र भी बरामद किया है’।

अरेराज CO पर जमीन के लिए बनाया था दबाव

पुलिस की पूछताछ में पता चला है कि अमोल ने अरेराज सर्किल ऑफसर (CO) पर जमीन के सौदे के लिए दबाव बनाया था। काम नहीं होने पर उसने मोतिहारी के जिलाधिकारी (DM) को भी इसकी शिकायत कर दी थी। बताया जाता है अमोल पिछले 3 साल से मोतिहारी और आसपास के इलाके में ठगी का काम करता था। इस दौरान न तो अफसरों को शक हुआ और न आम लोगों।

शादी तय है, दहेज भी तगड़ा मांगा है

फर्जी CBI ऑफिसर की पढ़ाई मोतिहारी और नेपाल में हुई है। वह अभी यहीं रह रहा था और CBI का फर्जी SP बनकर घूम रहा था। इसी झांसे में आकर उसकी एक अच्छे घराने में शादी भी तय हुई है, जहां उसे दहेज में मोटी रकम और एक लग्जरी गाड़ी मिलने वाली है, ऐसा भी लोगों ने बताया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.