Patna: 1542 रूपये के लिए नीतीश कुमार के सामने जनता दरबार में रोने लगे बुजुर्ग

0
111

सुशासन के सिस्टम की कलई मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में ही खुल रही है। सरकार से 1542 रूपये के सेटलमेंट के लिए सालों से जद्दोजहद करके हार चुके एक बुजुर्ग व्यक्ति आज जनता दरबार में पहुंचे। नीतीश कुमार को अपनी पीडा बताते हुए वे रोने लगे। बुजुर्ग व्यक्ति ने सीएम से कहा-हुजूर ऐसा सिस्टम बनाइये कि मेरे जैसे किसी औऱ आदमी को इतनी पीड़ा नहीं झेलनी पड़े।

बिजली विभाग का है कारनामा

नीतीश कुमार के जनता दरबार में आज एक बुजुर्ग व्यक्ति अपनी फरियाद लेकर आए थे। उनका बिजली विभाग से 1542 रूपये के सेटलमेंट का मामला सालों से लटका हुआ है। अपनी पीड़ा बताते हुए बुजुर्ग फरियादी फूट कर रोने लगे। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि बिजली विभाग ने उन्हें दौड़ा दौड़ा कर त्रस्त कर दिया है। विभाग के हर अधिकारी के पास उन्होंने आवेदन दिया लेकिन कोई कुछ सुन ही नहीं रहा है। हार कर उन्हें 1542 रूपये के लिए मुख्यमंत्री के पास आना पड़ा है। बुजुर्ग ने बताया कि वे बिजली कंपनी के एमडी के पास जाकर भी गुहार लगा आय़े लेकिन वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई।

ऐसा सिस्टम बनाइये कि किसी को परेशानी न हो

बुजुर्ग फरियादी की शिकायत सुनने के बाद मुख्यमंत्री ने बिजली विभाग के सचिव को फोन लगाया। आनन फानन में बुजुर्ग फरियादी का मामला सॉल्व कर दिया गया। बुजर्ग फऱियादी ने सीएम से कहा कि उनका मामला तो यहां आकर निपट गया लेकिन सरकार ऐसा सिस्टम बनाये कि किसी दूसरे को ये पीडा नहीं झेलनी पडी। नीतीश कुमार ने बिजली विभाग के सचिव को उस कर्मचारी या अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है जिसके कारण बुजुर्ग व्यक्ति का मामला इतने दिनों तक लटका रहा।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लंबे अर्से बाद फिर से जनता दरबार लगाना शुरू किया है। आज उनका दूसरा जनता दरबार लगा था. सीएम के जनता दरबार में आज नल-जल योजना की भी ढ़ेर सारी शिकायतें पहुंची। लोगों ने कहा कि गांवों में सिर्फ पानी टंकी बना कर छोड़ दिया गया है औऱ कागज पर ये दिखा गया है कि गांव में लोगों को पानी मिल रहा है। नीतीश कुमार ने पंचायती राज विभाग को मामले की जांच कर कार्रवाई करने को कहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.