पटना: ताबड़तोड़ फायरिंग में कारोबारी की हत्या, भाई और भतीजा घायल

0
56

पटना में एक बार फिर ताबड़तोड़ फायरिंग हुई है। सालिमपुर थाना क्षेत्र के सम्मतपुर गांव में बुधवार को बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग कर सब्जी कारोबारी की हत्या कर दी। फायरिंग में कारोबारी के भाई और भतीजा घायल हैं। पीएमसीएच में उनकी स्थिति नाजुक बताई जा रही है। घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया। मामला जमीन विवाद को लेकर चल रही पुरानी दुश्मनी का बताया जा रहा है। हत्या के बाद इलाके में तनाव का माहौल है। पुलिस इलाके में कैंप कर रही है। मृतक की पहचान भूषण सिंह के रूप में हुई है।

पहले कारोबारी फिर खेत में जाकर भाई और भतीजे को गोली मारी

बताया जाता है कि भूषण सिंह खेत से सब्जी तोड़कर मंडी में बेचने जा रहे थे। सम्मतपुर गांव से दो किलोमीटर दूर SH-106 के पास बाइक से आए बदमाशों ने उन्हें गोलियों से भून डाला। मौके पर ही उन्होंने दम तोड़ दिया। इसके बाद बाइक सवार बदमाश सीधे मंझौली हाल्ट से दक्षिण चकच्छितु गांव में मक्के के खेत में पहुंचे, जहां निकौनी कर रहे उनके भाई और भतीजे को भी गोली मार दी। दोनों घायलों की पहचान राम बालक सिंह और उनके पुत्र पिंटू कुमार के रूप में की गई है।

घटना की सूचना पर बाढ़ एसडीपीओ मनोज कुमार के साथ अथमलगोला थाने की पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और मामले में संलिप्त अपराधियों की छापेमारी में जुट गई। घटना से इलाके में तनाव है। पुलिस गांव में कैंप कर रही है। मौत के बाद रोते-बिलखते परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। हत्या के बाद गांव में मातम पसर गया है। ग्रामीण दबी जुबान कह रहे हैं कि एक महिला को उसके अधिकार नहीं देने के कारण गोलीबारी हुई है, लेकिन इस बारे में लोग खुलकर कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

बेटी के ससुराल वालों पर शक

बताया जा रहा है कि भूषण सिंह अपनी बेटी रेखा देवी की जमीन को बचाने का प्रयास कर रहे थे। इसी कारण बेटी की ससुराल वालों से दुश्मनी चल रही थी। रेखा की शादी अहियापुर में हुई थी। उसके पति को उसकी कसबा गांव निवासी नि:संतान बुआ धर्मशीला देवी ने गोद लिया था। इसमें उसके पति को 9 कट्‌ठा जमीन मिली थी। रेखा के पति की सड़क हादसे में मौत हो गई थी। इसके बाद वह अपने दो बच्चों के साथ मायके आकर रहने लगी थी। पति की जमीन पर उसके सुसराल वालों की नजर थी और बार-बार कब्जा करने का प्रयास कर रहे थे। बेटी की जमीन को बचाने के लिए भूषण सिंह लगे हुए थे। इस दौरान दोनों परिवारों में कई बार झगड़ा भी हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.