पटना: रेस्टोरेंट संचालक लापता, मोबाइल बंद, बाइक बरामद, किसी अनहोनी की आशंका से सहमे परिजन

0
82

पटना के कंकड़बाग के पीसी कॉलोनी स्थित पटना पटियाला रेस्टोरेंट के मालिक धनंजय कुमार सिंह संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गए हैं। घटना के बाद से ही उनका मोबाइल बंद है। इस मामले में उनके बेटे दिव्यांशु कुमार ने कंकड़बाग थाने में गुमशुदगी का आवेदन दिया है।

24 घंटे से अधिक बीत जाने के बावजूद रेस्टोरेंट मालिक का पता नहीं चलने पर पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। विवाद, कर्ज में डूबने, दोस्तों से पैसे के लेनदेन सहित कई अन्य बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए पुलिस लापता रेस्टोरेंट मालिक को सकुशल बरामद करने के प्रयास में जुट गई है।

दुकानदार से 500 रुपये का कराया चेंज

पुलिस के मुताबिक लापता रेस्टोरेंट मालिक धनंजय कुमार सिंह मूल रूप से पत्रकारनगर थाना क्षेत्र के तिलक नगर के रहनेवाले हैं। उनका पटना पटियाला नाम से कंकड़बाग के पीसी कालोनी में रेस्टोरेंट हैं। रोज की तरह 21 अगस्त की सुबह करीब नौ बजे वह बाइक से अपने घर से रेस्टोरेंट के लिए निकले। 10 बजे जब बेटे ने रेस्टोरेंट मालिक को फोन लगाया तो उनका फोन बंद मिला। इसकी सूचना बेटे ने अपनी मां को दी।

मां ने भी उन्हें कई बार फोन किया, लेकिन मोबाइल का स्विच ऑफ था। रेस्टोरेंट के करीब एक दुकानदार को जब मां ने फोन कर पूछा तो दुकानदार ने बताया कि धनंजय कुमार सिंह 500 रुपये का चेंज मुझसे लिए और चले गये। काफी खोजबीन करने पर जब पता नहीं चला तो बेटे ने कंकड़बाग थाने में गुमशुदगी का आवेदन दिया। बेटे ने पुलिस को बताया कि पैसे को लेकर मेरे पिता जी काफी परेशान चल रहे थे। दोस्तों से भी पैसे की लेनदेन की बात उनकी होती थी। लापता होने के पीछे यह भी बड़ा कारण हो सकता है।

रेस्टोरेंट के पास खड़ी मिली बाइक

कंकड़बाग थाना प्रभारी रविशंकर सिंह ने बताया कि जांच के दौरान रेस्टोरेंट के पास उनकी बाइक खड़ी मिली। सीसीटीवी फुटेज में पता चला है कि वह बाइक खड़ी करके एक ऑटो में सवार होकर वहां से निकले। अभी तक फिरौती मांगने व अपहरण किए जाने जैसी कोई बात सामने नहीं आयी है। किस वजह से वह लापता हुए और उनका मोबाइल बंद हुआ है, इसकी जांच की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.