तीसरी लहर का कारण बनेगा केरल? कोरोना हुआ और कातिल, नए केस 46 हजार के पार, मौत के आंकड़े भी बढ़े

0
59

भारत में कोरोना वायरस की रफ्तार एक बार फिर से डराने लगी है। केरल की वजह से भारत का कोरोना ग्राफ अब भयावह दिखने लगा है। भारत में आज यानी शनिवार को कोरोना वायरस के करीब 47 हजार नए केस आए और बीते 24 घंटे में 509 लोगों की मौतें हुई हैं। यहां ध्यान देने वाली बात है कि सिर्फ केरल में कल 32801 नए केस मिले और 179 लोगों की जानें चली गईं। इस बीच सिर्फ राहत की बात इतनी है कि भारत कोरोना टीकाकरण की दिशा में आगे बढ़ रहा है और शुक्रवार को एक दिन में एक करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन लगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के लेटेस्ट आंकड़ों के मुताबिक, भारत में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस के 46,759 नए केस मिले और 509 लोगों की मौत हुई। इस दौरान कोरोना से रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या नए मिले मरीजों से काफी कम है। बीते 24 घंटे में कोरोना से 31,374 लोग ठीक हुए। इस तरह से भारत में अब तक 3,26,49,947 कोरोना के केस मिल चुके हैं, जिनमें एक्टिव केसों की संख्या 3,59,775 है।

भारत में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,37,370 हो गई है और इससे ठीक होने वाले लोगों की संख्या 3,18,52,802 है। बता दें कि शनिवार की तुलना में शुक्रवार को काफी कम कोरोना केस आए थे और जान गंवाने वाले लोगों की संख्या भी कम थी। फिलहाल, भारत में 62,29,89,134 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है और बीते 24 घंटे में 1,03,35,290 टीके लगे हैं।

शुक्रवार को कितने मामले सामने आए
भारत में शुक्रवार को कोरोना वायरस के 44,658 नए मामले सामने आए थे। वहीं इस दौरान इस संक्रमण से 496 लोगों की मौत हो गई थी। हालांकि, शुक्रवार को देश में जो 496 लोगों की मौत हुई, उनमें से केरल के 162 और महाराष्ट्र के 159 लोग थे।

देश में कब कितने लाख मामले
देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवम्बर को 90 लाख के पार चले गए। देश में 19 दिसम्बर को ये मामले एक करोड़ के पार, चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.