नेपाल में भारी बारिश के बाद बिहार में हाई अलर्ट, पटना में वज्रपात और बारिश की चेतावनी

0
97

बिहार में मानसून एक बार फिर से सक्रिय है. इस वजह से कई इलाकों में बारिश हो सकती है. नेपाल में नेपाल में शुक्रवार को भारी बारिश होने के कारण बिहार में जल संसाधन विभाग ने हाई अलर्ट जारी किया है. उधर मौसम विभाग ने भी चेतावनी जारी की है कि पटना के विभिन्न इलाकों में अगले दो से तीन घंटे में वज्रपात के साथ बारिश हो सकती है.

नेपाल के पोखरा में शुक्रवार को भारी बारिश होने के कारण बिहार में अलर्ट जारी किया गया है. पोखरा इलाके में शुक्रवार को 280 एमएम मूसलाधार बारिश हुई है. इससे गंडक का पानी बिहार में एक बार फिर से बढ़ने की आशंका है. इसलिए जल संसाधन विभाग ने बिहार के मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, वैशाली, पूर्वी चम्पारण और पश्चिमी चम्पारण जिलों को अधिक सावधानी बरतने और तटबंधों पर निगरानी रखने का आदेश दिया है.

नेपाल से पानी गंडक नदी में आने की आशंका है. लेकिन बिहार सरकार ने एहतियातन बागमती नदी और कोसी नदी से जुड़े जिलों को भी सतर्क कर दिया गया है. गौरतलब हो कि इन नदियों के जलग्रहण क्षेत्र में भी वर्षा काफी हुई है. इन जिलों के डीएम को भी विभाग ने संदेश दिया है. साथ ही अपने इंजीनियरों को कहा है कि वह 24 घंटे जलस्तर पर निगरानी रखें और तटबंधों पर पेट्रोलिंग करते रहें.

जल संसाधन विभाग का मानना है कि गंगा अधिसंख्य जगहों पर लाल निशान से नीचे है. लिहाजा खतरा बहुत गंभीर नहीं है. लेकिन इसके बावजूद भी आदेश दिया गया है. नेपाल में हो रही मूसलाधार बारिश पर भी जल संसाधन विभाग की नजर है.

उधर मुजफ्फरपुर जिला समेत उत्तर बिहार में अगले दो-तीन दिनों तक बारिश की संभावना नहीं है. यहां मौसम शुष्क रहेगा. इसके बाद 6 से 8 सितंबर के बीच कहीं-कहीं हल्की वर्षा हो सकती है. शु्क्रवार को अगले 8 सितंबर तक के लिए जारी मौसम पूर्वानुमान में डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विवि, पूसा के मौसम विभाग ने यह जानकारी दी है. 

बताया जा रहा है कि इस दौरान उत्तर बिहार में हल्के बादल छाए रह सकते हैं. अगले दो -तीन दिनों तक अधिकांश जिलों में मौसम शुष्क रहने की संभावना है. हालांकि, तराई क्षेत्रों में छह से आठ सितंबर के बीच कहीं-कही हल्की वर्षा हो सकती है. इस अवधि में अधिकतम तापमान 33 से 36 और न्यूनतम तापमान 25 से 28 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.