पटना: सॉल्वर गैंग का सरगना पीके की तलाश जारी, मुसल्लहपुर में रेड, पुलिस हिरासत में प्रिंटिंग प्रेस का मालिक

0
65

सॉल्वर गैंग रैकेट का पर्दाफाश करने में यूपी और बिहार पुलिस जुटी हुई है। वाराणसी में एक सेंटर से गैंग के एजेंट के तौर पर दूसरे के बदले नीट की परीक्षा दे रही पटना की जुली और उसकी मां की गिरफ्तारी के बाद इसके सरगना पीके की तलाश काफी तेज हो गई है। इसी कड़ी में यूपी क्राइम ब्रांच की टीम ने आज पटना के कई इलाकों में छापेमारी की। इसी दौरान उत्तर प्रदेश से आई टीम ने मुसल्हपुर हाट में एक प्रिंटिंग प्रेस में छापेमारी कर उसके मालिक को हिरासत में लिया। फिलहाल बिहार और यूपी पुलिस दोनों प्रिंटिंग प्रेस के संचालक से पूछताछ में जुट गयी है।

पुलिस सूत्रों की माने तो नीट सॉल्वर गैंग की जांच की जा रही है। ऐसी जानकारी मिल रही है कि इस गैंग का मास्टर माइंड पीके पाटलिपुत्र इलाके में ही रहता है। पिछले दो दिनों से पीके की तलाश में पुलिस जुटी हुई है और लगातार छापेमारी कर रही है। इसी संबंध में आज भी यूपी और बिहार पुलिस ने पटना के कई इलाकों में छापेमारी की।

इस दौरान पुलिस टीम ने मुसल्लहपुर हाट इलाके में छापेमारी कर एक प्रिंटिंग प्रेस के मालिक को हिरासत में लिया। सॉल्वर गैंग के एजेंट के रूप में काम कर रही पटना की जुली ने पुलिस को कई अहम जानकारी दी है। जुली ने ही गैंग के सरगना का नाम पीके बताया है। अब पटना पुलिस को वाराणसी पुलिस के इनपुट का इंतजार है।

सॉल्वर गैंग से जुली की मां ने पांच लाख रुपये में यह सौदा किया था। सॉल्वर गैंग की नजर जुली पर उस वक्त से थी जब उसने मेडिकल प्रतियोगिता परीक्षा में टॉप किया था। इसके बाद से गैंग के सदस्य उससे संपर्क साधने लगे थे बावजूद जुली उनके झांसे में नहीं आई थी. लेकिन गैंग ने इसके बाद जुली की मां का सहारा लिया और फिर पैसे के लोभ में आकर वह दूसरों की परीक्षाओं में बैठने लगी। 

जुली पटना के बहादुरपुर की रहने वाली है। वह फिलहाल बीएचयू में रहकर डेंटिस्ट की पढ़ाई कर रही थी। इसी दौरान नीट यूजीसी में दूसरे की जगह परीक्षा देने के क्रम में उसे गिरफ्तार कर लिया गया। इस गैंग का खुलासा तब हुआ जब यूपी के वाराणसी में क्राइम बांच की टीम ने डेंटल मेडिकल प्रतियोगिता परीक्षा में अव्वल स्थान हासिल कर चुकी जुली और उसकी मां को गिरफ्तार किया। 

जुली त्रिपुरा की रहने वाली हिना विश्वास नाम की छात्रा के बदले नीट की परीक्षा देने के लिए बैठी थी। जुली से की गई पूछताछ के आधार पर अन्य सॉल्वरों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। जुली ने ही गैंग के सरगना का नाम पीके बताया था जिसकी तलाश में दोनों राज्यों की पुलिस लगी हुई है। 

गौरतलब है कि देशभर में सॉल्वर गैंग का एक बहुत बड़ा रैकेट चल रहा है। रैकेट को चलाने वाला सरगना तेज-तर्रार छात्र-छात्राओं पर नजर रखता है। उन्हें पैसों का लालच देकर इस गैंग में शामिल करते हैं जब ये उनकी बात नहीं सुनता है तब इन्हें अपनी जाल में फंसाने के लिए कई तरह के हथकंडा अपनाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.