Patna: JDU नेता डॉ राजीव सिंह और उनकी पत्नी के खिलाफ केस लेकिन पुलिस ने बीती रात छोड़ा, दंपत्ति ने जेल जाने से बचने के लिए अपनाया हथकंडा

0
73

पटना में जिम ट्रेनर को गोली मारे जाने के मामले में जेडीयू नेता डॉ राजीव सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह को पुलिस से ने शनिवार की सुबह उनके फ्लैट से उठाया था। दिनभर उनसे पूछताछ की गई इन दोनों के खिलाफ केस भी दर्ज किया गया लेकिन आखिरकार बीती रात पुलिस ने डॉ राजीव सिंह और उनकी पत्नी को छोड़ दिया। पुलिस ने रात के तकरीबन 9 बजे डॉ राजीव सिंह और उनकी पत्नी को घर जाने दिया। उधर लगातार इस बात की चर्चा रही कि डॉ राजीव सिंह जेल नहीं जाने से खुद को बचाने के लिए हर हथकंडा इस्तेमाल करते रहे। डॉ राजीव सिंह के करीबी माने जाने वाले बड़े लोगों ने लगातार इधर-उधर फोन घुमाया और यह कोशिश होती रही कि किसी तरह राजीव सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह को जेल जाने से बचाया जा सके। आखिरकार पुलिस ने लंबी पूछताछ के बाद राजीव और उनकी पत्नी को छोड़ दिया। जनता दल यूनाइटेड के जुड़े होने और सत्ता के करीब होने के कारण डॉ राजीव सिंह का रसूख बड़ा माना जा रहा है।

क्या है पूरी कहानी? 

राजधानी पटना में शनिवार की सुबह कदमकुआं बुद्धमूर्ति के आस पास का इलाका गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा था. स्कूटी से जा रहे एक जिम ट्रेनर पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसायी गयीं. उसे पांच गोलियां मारी गयी. हालांकि जिम ट्रेनर विक्रम अब तक जीवित है. उस पर हुए हमले की कहानी भी सामने आ गयी है. पटना के एक बहुचर्चित डॉक्टर की बीबी से अवैध संबंध के कारण ये खूनी खेल खेला गया. ये डॉक्टर जेडीयू के नेता भी हैं. पुलिस बता रही है कि डॉक्टर की बीबी और जिम ट्रेनर के बीच प्यार का आलम ये था कि दोनों के बीच साढ़े 8 महीने में 1100 कॉल हुए. ज्यादातर लेट नाइट और लंबे कॉल.  पुलिस ने जेडीयू चिकित्सा प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष डॉक्टर औऱ उनकी पत्नी को हिरासत में ले लिया. दोनों से पूछताछ की गई. डॉक्टर औऱ उनकी पत्नी बार-बार बयान बदलते रहे. लेकिन पुलिस कह रही थी कि दोनों के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिल गये हैं. अपनी पत्नी के अवैध संबंधों से खफा डॉक्टर ने जिम ट्रेनर विक्रम की हत्या की सुपारी दी थी. हालांकि किस्मत ने साथ दिया और विक्रम की जान बच गयी.  इसके बावजूद दोनों को बीती रात घर जाने दिया गया.

कौन है ये डॉक्टर और उनकी पत्नी

पटना में शनिवार की अहले सुबह हुई इस घटना को लेकर जिस डॉक्टर का नाम आ रहा है वे राजधानी के मशहूर फिजियोथेरेपिस्ट डॉ राजीव कुमार सिंह हैं. पटना के बोरिंग कैनाल रोड की एक डॉ. राजीव का साईं फिजियोथेरेपी सेंटर है. वे पेज थ्री वाली जमात के प्रमुख सदस्य रहे हैं. फिल्मी एक्टरों और दूसरे सेलेब्रेटी के साथ तस्वीरें खिंचवाने के शौकीन. सत्ता के गलियारे में अपनी पकड़ बनाने के लिए डॉ राजीव ने सत्तारूढ जेडीयू का सहारा लिया था. वे जेडीयू चिकित्सा प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष हैं. उनकी पत्नी हैं खुशबू सिंह. खुशबू सिंह के जिम ट्रेनर विक्रम की प्रेम कहानी के कारण ही ये खूनी खेल खेला गया.

पुलिस हिरासत में डॉक्टर औऱ उनकी पत्नी

पटना पुलिस ने जिम ट्रेनर विक्रम को गोली मारने की घटना के बाद डॉ राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू को हिरासत में ले लिया है. उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है. दरअसल उससे पहले जिम ट्रेनर विक्रम ने अस्पताल में पुलिस को बयान दिया था. उसने कहा था कि उसकी हत्या की साजिश डॉ राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह ने रची थी. विक्रम ने पुलिस को बताया कि उसे पहले ही डॉ राजीव ने धमकी दी थी कि उसकी हत्या कर दी जायेगी. आज मर्डर करने के लिए अपराधी भेज दिये. विक्रम के इसी बयान के बाद पुलिस पाटलिपुत्रा स्थित डॉ राजीव के घर गयी और उन्हें औऱ उनकी पत्नी को हिरासत में ले लिया. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि डॉ राजीव और उनकी पत्नी किसी सवाल का सही से जवाब नहीं दे रहे हैं. 

जिम ट्रेनर के प्यार में दीवानी थी डॉक्टर की पत्नी

घायल जिम ट्रेनर विक्रम का बयान लेने के बाद पुलिस दूसरे तथ्यों की पड़ताल में लग गयी. पुलिस ने विक्रम और डॉक्टर की पत्नी के मोबाइल का कॉल डिटेल खंगाला. पटना पुलिस के मुताबिक इस साल जनवरी से लेकर अब तक के कॉल डिटेल को देखा गया. पुलिस ने पाया कि इस साल जनवरी से लेकर अब तक यानि 260 दिनों में जिम ट्रेनर औऱ डॉक्टर की पत्नी के बीच सिर्फ मोबाइल पर 1100 दफे बात हुई है. दोनों के बीच लेट नाइट भी जमकर बातचीत होती थी. खास बात ये भी है कि ज्यादातर कॉल 30 से 40 मिनट के होते थे. 

जिम ट्रेनर के घर के बाहर रोने लगी थी खुशबू सिंह

पटना पुलिस को खबर मिली है कि इसी साल 18 अप्रैल को डॉ राजीव ने अपनी पत्नी औऱ जिम ट्रेनर विक्रम के प्रेम संबंधों में हस्तक्षेप किया था. राजीव ने विक्रम को कॉल कर मर्डर करा देने की धमकी दी थी. विक्रम के छोटे भाई ने बताया कि डॉ राजीव की धमकियों से डर कर उसके भैया ने खुशबू सिंह से बात करना बंद कर दिया था. ये करीब 3-4 महीने पहले की बात है. जब भैया ने बात करना बंद कर दिया तो खुशबू सिंह हमारे घर के सामने पहुंच गयी थी और सड़क पर खडे हो कर रोने लगी थी. पूरे मुहल्ले में तमाशा खड़ा हो गया था. खुशबू सिंह कह रही थी कि वह विक्रम से बात किये बगैर जायेगी ही नहीं. विक्रम के भाई के मुताबिक खुशबू सिंह ने उसे भी एक दफे रात के 12 बजे कॉल कर कहा था कि अपने भाई से बात कराओ. विक्रम का भाई कह रहा है कि डॉ राजीव और उसकी पत्नी से मर्डर कराने की साजिश रची.

अपने हौंसले के कारण बच गया विक्रम

जिम ट्रेनर विक्रम अपने हौंसले के कारण जान बचाने में सफल रहा. मूलरूप से बांका का रहने वाला विक्रम पटना के लोहानीपुर गौराया स्थान के पास किराये के घर में रहता है. वह पटना मार्केट के एक जिम में ट्रेनर का काम करता है. आज सुबह 6 बजे जब वह अपने घर से जिम के लिए निकला तो कदमकुआं बुद्धमूर्ति के पास खड़े सड़क के दोनों तरफ खड़े अपराधियों ने उस पर ताबडतोड गोलियां चलायीं. लेकिन विक्रम स्कूटी रोकने के बजाय उसे भगाता रहा. इसका नतीजा ये हुआ कि अपराधियों की गोली सटीक निशाने पर नहीं लग सकी. विक्रम के हाथ में दो गोली,  पैर में दो गोली और एक गोली कमर के पास लगी. लेकिन वह भागता रहा. 

खुद स्कूटी चलाकर पहुंचा अस्पताल

पांच गोलियां लगने के बावजूद विक्रम स्कूटी से एक प्राइवेट अस्पताल में पहुंच गया. लेकिन प्राइवेट अस्पताल ने उसे भर्ती लेने से मना कर दिया. इसके बाद वह लगभग ढ़ाई किलोमीटर दूर पीएमसीएच के इमरजेंसी वार्ड में खुद ही पहुंच गया. उसके शरीर से खून बह रहा था लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी. पीएमसीएच से उसने फोन कर अपने परिजनों को घटना की जानकारी दी. पीएमसीएच के डॉक्टरों के मुताबिक हाथ और पैर में लगी गोलियां निकाल दी गयीं हैं लेकिन कमर में लगी गोली अभी भी फंसी हुई है. 

जेडीयू नेता और पेज थ्री जमात का है डॉक्टर

डॉ राजीव पटना के पेज थ्री वाली जमात का मेंबर है. उसकी राजनीतिक पैठ भी है. जेडीयू ने उसे चिकित्सा प्रकोष्ठ का प्रदेश उपाध्यक्ष बना रखा है. डॉ राजीव ने अपने क्लीनिक में कई फिल्म स्टार, क्रिकेटरों के साथ तस्वीरें लगा रखी हैं. पटना के एक खास जमात में फिजियोथेरेपिस्ट डॉ राजीव की महफिलें सजती थीं. इनमें नेता, डॉक्टर, ब्यूरोक्रेट्स से लेकर समाज के दूसरे तबके के लोग शामिल रहते थे. 

उधर जिम ट्रेनर विक्रम भी मॉडलिंग का काम कर चुका है. बिहार स्तर की एक मॉडलिंग प्रतियोगिता में वो विनर रहा था. उसने कई भोजपुरी और हिन्दी एलबम में भी काम किया है. कुछ फिल्मों में भी उसने काम किया है. विक्रम ने कई गाने भी गाये हैं. फिलहाल वह पटना मार्केट की एक जिम में ट्रेनर था लेकिन उससे पहले वह बोरिंग रोड और कंकडबाग के जिम में ट्रेनर का काम कर चुका था. पुराने जिम में ही उसे डॉ राजीव की पत्नी से प्यार हुआ था जो वहां फिटनेस के लिए आती थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.