रेप के मामले में फंसे सांसद प्रिंस राज की मुश्किलें बढ़ी, अग्रिम जमानत पर फैसला सुनाने से जज का इनकार, खुद को केस से अलग किया

0
64

 एक युवती के साथ कई दफे रेप करने और उसका अश्लील वीडियो बनाने के मामले में फंसे लोजपा सांसद प्रिंस राज की मुश्किलें कम नहीं हो रही है. मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद प्रिंस राज ने दिल्ली की कोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका दायर की थी. पांच दिन पहले दायर हुई याचिका पर बहस भी पूरी हो गयी. लेकिन सुनवाई करने वाले जज ने फैसला सुनाने से इनकार कर दिया. जज ने इस केस से खुद को अलग कर लिया है.

दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट का मामला

दरअसल सांसद प्रिंस राज ने अपने खिलाफ FIR दर्ज होने के बाद दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट ने अग्रिम जमानतकी याचिका दायर की थी. इस पर दोनों तरफ से बहस भी हो गयी थी लेकिन आज मामले की सुनवाई कर रहे जज जज एमके ने अग्रिम जमानत याचिका पर फैसला सुनाने से इनकार कर दिया. कोर्ट से मिल रही जानकारी के मुताबिक जज एम के नागपाल ने इस केस से खुद को अलग कर लिया है. लिहाजा केस को फिर से जिला जज के पास ट्रांसफर कर दिया गया है. अब जिला जज फिर से तय करेंगे कि इस याचिका पर कैसे और कहां सुनवाई हो.

हम आपको बता दें कि प्रिंस राज की अग्रिम जमानत याचिका पर पांच दिन पहले ही दिल्ली की कोर्ट में सुनवाई हुई थी. तब जज ने फैसला सुरक्षित रख लिया था. प्रिंस राज की याचिका पर बहस के दौरान दिल्ली पुलिस ने उन्हें अग्रिम जमानत देने का जमकर विरोध किया था. पुलिस के वकील ने कहा था कि सांसद प्रिंस राज पर गंभीर आरोप है और उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करना जरूरी है. पुलिस की ओर से कहा गया था कि पीड़ित युवती ने कहा है कि प्रिंस राज के पास उसका अश्लील वीडियो है. प्रिंस राज से वह वीडियो हासिल करना बेहद जरूरी है. 

 उधर प्रिंस राज के वकील का कहना था कि ये मामला रेप का नहीं है. शिकायत करने वाली लड़की ने प्रिंस राज को फंसा कर पैसे उगाही करने की कोशिश की थी. ये हनी ट्रैप का मामला है. उनके वकीलों ने कहा कि प्रिंस राज ने पहले ही 9 फरवरी को उस युवती के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा रखा है. उसमें आऱोप लगाया गया है कि उन्हें युवती ने हनी ट्रैप में फंसाया और फिर अपने एक दोस्त के साथ मिलकर एक करोड़ रूपये की उगाही करने की कोशिश शुरू की. 

वैसे अपने एफआईआर में ही प्रिंस राज ने माना था कि उन्होंने उस युवती के साथ सेक्स किया था. उधर युवती ने पुलिस पर अपना केस दर्ज नहीं करने का आरोप लगाते हुए कोर्ट में अर्जी दी थी. कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली पुलिस ने प्रिंस राज के खिलाफ केस दर्ज किया था. अब पुलिस कह रही है कि इस मामले की सही छानबीन के लिए प्रिंस राज को हिरासत में लेकर पूछताछ करना जरूरी है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.