कांग्रेस के लिए 2022 में सिरदर्द होंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह? इस रणनीति से सतर्क हुई पार्टी

0
168

कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद चरणजीत सिंह चन्नी को भले ही कांग्रेस ने पंजाब का सीएम बना दिया है, लेकिन अब भी पार्टी को दिग्गज नेता की ओर से अभयदान नहीं मिला है। यही वजह है कि कांग्रेस फिलहाल कैप्टन अमरिंदर सिंह को लेकर बेहद सतर्क है और उनकी एक्टिविटीज पर नजर बनाए हुए हैं। अब उनके दिल्ली स्थित ओएसडी नरेंद्र भांबरी के एक ट्वीट को लेकर कांग्रेस में चर्चा हो रही है। भांबरी ने ट्विटर पर एक पोस्टर शेयर किया है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि ‘कैप्टन 2022’। उनके इस ट्वीट से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह 2022 के विधानसभा चुनाव में उतर सकते हैं।

भांबरी ने बुधवार की शाम को ही यह ट्वीट किया था और फिर कुछ देर के बाद ही कैप्टन अमरिंदर सिंह की ओर से जारी बयान में कहा गया कि वे 2022 के विधानसभा चुनाव में नवजोत सिंद्धू के खिलाफ मजबूत उम्मीदवार उतारेंगे। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि मैं सिद्धू को सीएम नहीं बनने दूंगा और इसके लिए हरसंभव प्रयास करूंगा। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पार्टी पहले ही अमरिंदर सिंह को लेकर सतर्क है और उन पर नजर बनाए हुए हैं। इंडियन एक्सप्रेस ने कांग्रेस सूत्र के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘ये रिपोर्ट्स भी चल रही हैं कि कैप्टन अमरिंदर सिंह 2 अक्टूबर को बड़ा ऐलान कर सकते हैं।’

किसानों और बीजेपी के बीच सेतु बनेंगे अमरिंदर?

पंजाब में चर्चा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के कुछ किसान यूनियनों से बहुत अच्छे रिश्ते हैं। इसके चलते वे केंद्र सरकार और किसानों के बीच बातचीत के लिए एक सेतु के तौर पर काम कर सकते हैं। कांग्रेस सूत्र ने कहा कि उन्होंने सीएम पद से हटने के बाद से जितने भी इंटरव्यू दिए हैं, उसमें पार्टी को लेकर तो बात की है, लेकिन भाजपा पर चुप्पी साधे रखी है। ऐसे में कांग्रेस उन्हें लेकर सतर्क है। पंजाब के राजनीतिक जानकारों का कहना है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह इसलिए फिलहाल इंतजार कर रहे हैं क्योंकि मंत्रि परिषद का गठन नहीं हुआ है। 

2022 में कैप्टन अमरिंदर सिंह उतरेंगे चुनाव मैदान में!

कैबिनेट के गठन के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह नाराज नेताओं को साथ लेकर कोई ऐलान कर सकते हैं। फिलहाल उनके ओएसडी की ओर से पोस्टर शेयर किए जाने के बाद से इस बात की चर्चा जोरों पर है कि क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह 2022 का चुनाव लड़ेंगे। कहा जा रहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह का कुछ प्लान जरूर है। सिद्धू के खिलाफ उम्मीदवार उतारने की बात करके उन्होंने इसके संकेत जरूर दे दिए हैं।

मंत्रिपरिषद में भी जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधने की तैयारी

कैप्टन अमरिंदर सिंह की रणनीति को ध्यान में रखकर ही कांग्रेस संभलकर चल रही है। इसीलिए पार्टी ने एक तरफ दलित सिख को सीएम बनाया है तो वहीं जाट सिख और सवर्ण हिंदू समुदाय के नेता को डिप्टी सीएम बनाया है। अब मंत्रिपरिषद के गठन में भी जातीय और क्षेत्रीय समीकरणों को साधने का प्रयास किया जाएगा। हाल ही में सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू दिल्ली गए थे ताकि मंत्रिपरिषद पर चर्चा की जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.