जिम ट्रेनर गोलीकांड का खुलासा: डॉक्टर की बीबी ने एक ब्यॉयफ्रेंड के मर्डर की सुपारी दूसरे ब्यॉयफ्रेंड को दी थी

0
98

एक शादीशुदा महिला के कितने ब्यॉयफ्रेंड हो सकते हैं. पटना के बहुचर्चित जिम ट्रेनर गोलीकांड के खुलासे के बाद यही सवाल जेहन में उठ रहा है. पुलिस ने आज खुलासा किया कि डॉक्टर औऱ जेडीयू नेता राजीव कुमार सिंह ने अपने एक ब्यॉयफ्रेंड विक्रम के मर्डर की सुपारी दूसरे ब्यॉयफ्रेंड मिहिर को दी थी. पटना के एसएसपी ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि इस खूनी खेल की सारी कहानी सामने आ चुकी है. डॉ राजीव, उसकी पत्नी खुशबू सिंह, उसके पुराने ब्यॉयफ्रेंड मिहिर के साथ साथ शूटर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. लेकिन जो बात पुलिस कैमरे के सामने नहीं कह रही है वो ये है कि डॉक्टर की पत्नी खुशबू सिंह ने कम से कम एक दर्जन ब्यॉयफ्रेंड बना रखे थे. ये पटना के हाईप्रोफाइल घर की घिनौनी कहानी है.

ढाई से तीन लाख रूपये में हुआ सौदा

पटना के एसएसपी उपेंद्र शर्मा ने आज बहुचर्चित जिम ट्रेनर गोलीकांड पर प्रेस कांफ्रेंस किया. उन्होंने कहा कि पुलिस ने मामले को सुलझा लिया है. डॉक्टर राजीव कुमार सिंह की पत्नी खुशबू सिंह ने जिम ट्रेनर विक्रम के मर्डर की साजिश रची थी. इसमें उसका भागीदार मिहिर नाम का उसका ‘दोस्त’ था. खुशबू ने मिहिर से कहा कि विक्रम उसे चैन से जीने नहीं देगा. लिहाजा उसे रास्ते से हटाना जरूरी है. उसके बाद उसके दोस्त मिहिर ने अपने एक संबंधी सूरज से संपर्क कर मर्डर की प्लानिंग रची.

दो-तीन महीने से हो रही मर्डर की प्लानिंग

एसएसपी ने बताया कि खुशबू सिंह के दोस्त मिहिर ने सूरज के जरिये से दो शूटर को सेट किया. दोनों शूटर ने कहा कि वे मर्डर के लिए ढाई से तीन लाख रूपये लेंगे. खुशबू इसके लिए राजी हो गयी. एसएसपी ने कहा कि ये सेटिंग सावन महीने से पहले हो गयी थी. मिहिर ने पुलिस को बताया कि उसने खुशबू की कहानी पर भरोसा करके मर्डर की साजिश रच दी. पुलिस कह रही है कि मिहिर का कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं है. लेकिन उसने ही सारी प्लानिंग रची.

एडवांस में दिये गये थे 1लाख 85 हजार रूपये

पटना के एसएसपी ने बताया कि जिम ट्रेनर के मर्डर को अंजाम देने के लिए डॉक्टर की पत्नी खुशबू सिंह ने 1 लाख 85 हजार रूपये एडवांस भी दिये थे. सावन के महीने में पाटलिपुत्रा इलाके में एक्सिस बैंक में डॉक्टर की पत्नी मिहिर को पैसा देने आयी थी. तब उसके साथ एक और महिला भी थी. मिहिर ने बताया कि वह खुशबू की दोस्त थी. खुशबू ने अपनी दोस्त के सामने ही ब्यॉयफ्रेंड मिहिर को पैसे दिये थे ताकि विक्रम की हत्या को अंजाम दिया जा सके.

हाईप्रोफाइल घर का घिनौना किस्सा

पटना के एसएसपी ने बताया कि खुशबू के जिस  दोस्त मिहिर ने मर्डर की प्लानिंग रची उससे खुशबू का 5-6 साल पुराना अंतरंग संबंध रहा है. मिहिर पुलिस को बता रहा है कि उनका संबंध किस लेवल का था. खुशबू इसे स्वीकार नहीं कर रही है. एसएसपी ने कहा-आप लोग समझ रहे होंगे के कि दोनों के संबंधों को लेकर मैं क्या कहना चाह रहा हूं. वैसे तो मिहिर से खुशबू का पुराना रिश्ता था लेकिन बीच में संबंध टूट गया था. लेकिन जैसे ही विक्रम से संबंध टूटा वैसे ही मिहिर ने फिर से खुशबू की लाइफ में एंट्री मार ली.

विक्रम को 1875 कॉल तो मिहिर को 900 कॉल

पटना के एसएसपी उपेंद्र शर्मा ने बताया कि पुलिस को बहुत पुराना कॉल डिटेल नहीं मिल पाता है. लेकिन पुलिस ने सितंबर से 2020 से लेकर अब तक का कॉल रिकार्ड निकलवाया है. जिम ट्रेनर विक्रम से लेकर डॉ राजीव और उसकी पत्नी खुशबू सिंह का. जिम ट्रेनर विक्रम औऱ खुशबू सिंह के बीच 1 सितंबर 2020 से मई 2021 यानि लगभग 8-9 महीने में 1875 बार फोन पर बात हुई. दोनों ने सिर्फ फोन पर साढे पांच लाख सेंकेड बात की.

लेकिन मई 2021 में जिम ट्रेनर विक्रम से खुशबू का संबंध टूट गया. ठीक उसके अगले दिन खुशबू ने अपने पुराने दोस्त मिहिर से बात करना शुरू कर दिया. खुशबू का जब तक जिम ट्रेनर विक्रम से संबंध था तब तक उसने एक दफे भी मिहिर को कॉल नहीं किया था. लेकिन संबंध टूटने के अगले दिन मिहिर ने एंट्री मारी. पुलिस ने बताया कि मई 2021 से अब तक खुशबू और मिहिर के बीच 900 कॉल पर बात हुई. यानि हर दिन लगभग 7 कॉल. दोनों ने चार महीने में चार लाख सेकेंड बातचीत की।

पटना के एसएसपी ने बताया कि पुलिस ने इस मामले का अनुसंधान वैज्ञानिक तरीके से किया. डॉक्टर की बीबी खुशबू सिंह के मोबाइल के कॉल डिटेल से मिहिर का पता चला. फिर मिहिर के कॉल डिटेल से उसके रिश्तेदार सूरज की जानकारी हुई. फोन कॉल्स की छानबीन से पता चला कि सूरज ने पहले सुपारी किलर्स से खुद बात की और फिर मिहिर ने भी उनसे बात की. पुलिस ने मर्डर की सुपारी लेने वालों की पहचान कर ली तो फिर उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिशें शुरू की गयी. 

एसएसपी ने बताया कि खुशबू के लिए पागल मिहिर यादव पिछले दो महीने से पटना के भागवत नगर इलाके में किराये के एक फ्लैट में रह रहा था ताकि मर्डर की इस घटना को अंजाम दिया जा सके. अपने रिश्तेदार सूरज के जरिये उसने अमन, आर्यन औऱ शमशाद नामे के सुपारी किलर्स को हायर किया था. एसएसपी ने बताया कि इन तीनों में अमन का कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं मिला है. वह समस्तीपुर का रहने वाला है. वहीं बेगूसराय के रहने वाले मो. शमशाद पर पहले भी आर्म्स एक्ट का केस हो चुका है. तीसरा शूटर आर्यन सोनपुर का रहने वाला है और उस पर भी पहले से आर्म्स एक्ट का केस है. तीनों शूटर ने अपना अपराध कबूल कर लिया है.

एसएसपी ने बताया कि इस पूरे मामले में खुशबू सिंह का रोल तो क्लीयर है पर डॉ राजीव कुमार सिंह का रोल स्पष्ट नहीं हो रहा है. हालांकि जेल दोनों को भेजा गया है. एसएसपी ने बताया कि राजीव औऱ उसकी पत्नी खुशबू ने पुलिस से पूछताछ में अपना गुनाह नहीं कबूला लेकिन सारी बातें साफ हैं. एसएसपी ने कहा कि डॉ राजीव को इसलिए जेल भेजा गया है क्योंकि मर्डर के लिए जो सुपारी दी गयी उसमें राजीव सिंह के पैसे यूज किये गये. खुशबू सिंह कोई काम नहीं करती थी. पैसे तो राजीव सिंह कमाता था. लिहाजा अगर मर्डर के लिए पैसे दिये गये तो वह राजीव सिंह का ही पैसा होगा.

खुशबू सिंह के कितने ब्यॉयफ्रेंड

पटना के एसएसपी ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी. लेकिन पटना पुलिस के एक अधिकारी ने चौंकाने वाली जानकारी दी. उन्होंने कहा कि पुलिस टीम ने जब छानबीन की तो ऐसे एक दर्जन युवकों का नाम सामने आया जिनसे खुशबू सिंह के बेहद अंतरंग संबंध रहे हैं. लंबे-लंबे कॉल, मैसेजे औऱ ना जाने क्या-क्या. खुशबू सिंह जो खेल खेल रही थी वह हैरान करने वाला था. पुलिस कह रही है कि चूंकि इस गोलीकांड में सिर्फ एक ब्यॉयफ्रेंड मिहिर का रोल सामने आया है इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा जिन लोगों से खुशबू सिंह के अंतरंग संबंध थे उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गयी.

विक्रम की बाहों में नहीं रह पायी तो मर्डर की साजिश रच दी

गौरतलब है कि पटना के कदमकुआं बुद्धमूर्ति के पास जिम ट्रेनर विक्रम पर पिछले 18 सितंबर को ताबडतोड गोलियां बरसायी गयी थी. विक्रम को 5 गोली लगी लेकिन वह अपने हिम्मत के बल पर हत्यारों से बचकर भाग निकला औऱ खुद बाइक चलाता हुआ पीएमसीएच जा पहुंचा. तत्काल इलाज मिलने के कारण उसकी जान बच गयी. उसके बाद खुशबू सिंह और उसके पति राजीव कुमार सिंह का घिनौना खेल सामने आया. अस्पताल में भर्ती विक्रम ने अपनी हत्या की साजिश रचने का सीधा आरोप जेडीयू के नेता औऱ फिजियोथेरेपिस्ट डॉ राजीव सिंह औऱ उसकी पत्नी खुशबू सिंह पर लगाया था. विक्रम ने कहा था कि इन दोनों के अलावा कोई और उसका दुश्मन नहीं है. पुलिस ने घटना के दिन दोनों को हिरासत में लिया था लेकिन रात में ही थाने से छोड़ दिया था. चर्चा ये हुई कि हाईप्रोफाइल लोगों का इतना दबाव पड़ा कि पुलिस ने उसे थाने से छोड़ दिया. 

बाद में विक्रम ने सारी पोल खोली. उसने बताया कि वह राजीव सिंह को जिम सिखाने जाता था औऱ वहीं खुशबू सिंह से जान-पहचान हुई थी. दोनों के रिश्ते बन गये. बाद में विक्रम ने इस नाजायज रिश्ते को तोड़ना चाहा पर खुशबू ने ऐसा नंगा औऱ घिनौना खेल खेला जिसकी विक्रम को उम्मीद नहीं थी. विक्रम मे बताया कि जब उसने संबंध तोड़ना चाहा तो खुशबू उसे बहुत ब्लैकमेल करने लगी. कभी कहती थी सुसाइड कर लेंगे तो कभी कुछ और धमकी.  उसने हर तरह से विक्रम को ब्लैकमेल किया. वह विक्रम के घर पहुंच गयी और भारी ड्रामा खड़ा कर दिया. वह उस जिम में पहुंचकर एक-एक महीने बैठी रहती थी जिसमें विक्रम काम करता था. 

विक्रम ने मीडिया को बताया कि वह खुशबू के डर से घर छोड़कर भाग जाता था, मोबाइल का नंबर बदल देता था, नया-नया नंबर लेता था. लेकिन खुशबू को नया नंबर भी पता चल जाता था. वह अक्सर उस जिम में हंगामा करती थी जहां विक्रम काम करता था. जिम करने आने वालों के सामने कई बार हंगामा कर चुकी थी. जिम में आने वाले सारे लोग ये जानते हैं. विक्रम फिल्मों औऱ एलबम में काम करता था. जब वह एल्बम की शूटिंग में जाता था तो खुशबू वहां के गायकों को ये कॉल करती थी और कहती थी कि विक्रम को काम नहीं देना है. अगर काम दिया तो वह हंगामा खड़ा कर देगी. 

विक्रम ने मीडिया को बताया कि खुशबू उसके साथ जबरदस्ती शारीरिक रिलेशन में रहना चाहती थी. जब विक्रम ने संबंध तोड़ने की बात कही तो खुशबू ने पहले पैसे का दबाव बनाया. उसने कहा कि जब हमें छोड़ दिए तो जो मैने पैसा खर्च किया है वह मुझे लौटाओ. जितना पैसा उसने मेरे उपर खर्च किया था उतना एक बार में लौटाना संभव नहीं था. विक्रम ने उसे पैसे लौटाने के अपनी गाड़ी और फोन तक बेच दिया. कुछ पैसा कैश में लौटाया, बाकी पेमेंट उसके हसबेंड डॉ. राजीव कुमार सिंह के अकाउंट में डाल दिएगये. विक्रम ने कुल 85 हजार रुपया लौटाया.

विक्रम ने बताया है कि खुशबू ने फेसबुक पर फेक आईडी बनाकर तीन महीने तक टॉर्चर किया. विक्रम के पोस्ट पर भद्दे भद्दे कमेंट करती थी. जिम ट्रेनर के मुताबिक जब खुशबू परेशान कर रही थी तो उसने राजीव सिंह को दो बार कॉल किया था. राजीव सिंह ने कहा कि पहले प्रूफ लेकर आओ तब देखेंगे. इस बीच खुशबू सिंह का फोन आता था और वह जब भी फोन करती थी तो विक्रम को ही नहीं, उसे मां-बाप को भी भद्दी भद्दी गालियां देती थी. 

विक्रम ने मीडिया को बताया कि खुशबू जबरन साथ रहना चाहती थी और वह रहना नहीं चाहता था खुशबू के डर से विक्रम पटना छोड़कर भाग गया. तब खुशबू ने कम से कम 1 हजार लोगों को कॉल और मैसेज किया कि मैं उसकी गर्लफ्रेंड बोल रही हूं. मेरी विक्रम से  बात करवा दो, मुझे मिलवा दो. एक बार मिल जाये औऱ फिर कुछ नहीं बोलूंगी. जैसा वो चाहेगा वैसा ही होगा, मैं उसे तंग नहीं करूंगा. बस वह वापस आ जाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.