जिम ट्रेनर गोलीकांड: चार दिन बाद जेल में खुशबू और डॉ. राजीव की हुई मुलाकात, एक-दूसरे को जमकर कोसा

0
140

राजधानी पटना में जिम ट्रेनर गोलीकांड मामले में पुलिस अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है. जिम ट्रेनर विक्रम सिंह राजपूत की हत्या की साजिश रचने और फायरिंग करने के आरोप में डॉ राजीव कुमार सिंह और उसकी खुशबू सिंह, खुशबू का पुराना आशिक मिहिर सिंह, कांट्रेक्ट किलर अमन, आर्यन और शमशाद को बेऊर जेल में अलग-अलग वार्ड में रखा गया है.

जो ऐशो आराम डॉ राजीव कुमार सिंह और उसकी पत्नी खुशबू सिंह को बाहर में मिल रहा था, जेल में वो सारा सुकून छिन गया है. कहा जा रहा है कि जेल में खुशबू को न तो नींद आ रही है और न ही उसे चैन मिल रहा है. करवटें बदलने में ही खुशबू रात कट रही है. रविवार को प्रावधान के तहत डॉ. राजीव और उनकी पत्नी खुशबू की जेल अधीक्षक कार्यालय में मुलाकात कराई गई. जेल सूत्रों की मानें तो मुलाकात के दौरान आमना-सामना होने पर दोनों एक-दूसरे को कोसते रहे और एक दूसरे को दोनों ने खूब बुरा-भला कहा.

डॉ राजीव कुमार सिंह और उसकी पत्नी खुशबू सिंह की मुलाकात के बाद दोनों को फिर से अलग-अलग वार्डों में भेज दिया गया. इस मामले में पुलिस की ओर से एक और नई जानकारी साझा की गई है. पुलिस की मानें तो डॉ. राजीव और उनकी पत्नी खुशबू के बीच भी मनमुटाव था. एक साल पहले ही दोनों पति-पत्नी के बीच में झगड़ा हुआ था. लड़ाई के बाद खुशबू बुद्धा कॉलोनी थाने पहुंच गई थी. एफआईआर दर्ज कराने के लिए दोनों के बीच में घंटों थाने में हाईप्रोफाइल ड्रामा हुआ लेकिन पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हो गया था.

गौरतलब हो कि बीते शुक्रवार को जिम ट्रेनर पर हुए जानलेवा हमले के मामले में पटना के मशहूर फिजियोथेरेपिस्ट राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह के साथ-साथ छह आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. इन 6 लोगों में खुशबू का एक पुराना आशिक मिहिर सिंह भी शामिल था. जिसने इस हमले में मुख्य भूमिका निभाई है. खुशबू सिंह अपने पुराने आशिक मिहिर के साथ इस बड़ी वारदात की साजिश रची और प्रेमी विक्रम को ठिकाने लगाने की पूरी प्लानिंग सेट की.

पटना पुलिस मिहिर के चचेरा भाई सूरज और विकास नाम के अपराधी को भी तलाश रही है. कदमकुआं थाना प्रभारी विमलेंदु कुमार ने बताया कि दोनों आरोपितों के बारे में अहम सुराग मिले हैं. जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार किया जाएगा. पटना पुलिस के मुताबिक पेटी कॉन्ट्रैक्ट किलर अमित ने अपने दोस्त सरफराज, रोहित और दो साथियों का विक्रम को गोली मारने के लिए इस्तेमाल किया. हत्या करने के उद्देश्य से 18 सितंबर को उसके ऊपर सुबह-सुबह गोलियां बरसाई गई.

पुलिस की जांच में पता चला कि खुशबू ने साजिश रचने के लिए पांच साल पुराने दोस्त मिहिर का सहारा लिया. उसी ने कांट्रैक्ट किलर तक पहुंचाया था. मिहिर सिंह ने विक्रम को मारने का ठेका कॉन्ट्रैक्ट किलर को दिया और वारदात के बाद ही मिहिर दिल्ली फरार हो गया. उसके परिवार पर जब दबाव पड़ा तो वो गुरुवार को वापस पटना लौटा. जैसे ही वह शाम 5 बजकर 20 मिनट की फ्लाइट से आया था. पुलिस ने मिहिर को भी गिरफ्तार कर लिया था.

आपको बता दें कि पिछले दिनों पुलिस के हाथ एक तस्वीर लगी थी. फोटो में जिम ट्रेनर विक्रम सिंह और आरोपी डॉ राजीव कुमार सिंह की पत्नी खुशबू सिंह कार में बैठे नजर आ रहे हैं. इस तस्वीर में दोनों एक साथ कार में बैठे घूमते नजर आ रहे हैं. वहीं इससे पहले एक महिला का ऑडियो वायरल हुआ था. ऑडियो में महिला जिम ट्रेनर को भद्दी भद्दी गालियां देते सुनाई पड़ती है. साथ ही ऑडियो में जान से मारने की धमकी भी दी गयी थी. जिसपर घायल जिम ट्रेनर की पत्नी और परिजनों ने दावा किया था कि फिजियोथैरेपिस्ट डॉक्टर राजीव कुमार सिंह की पत्नी खुशबू सिंह का ऑडियो है.

गौरतलब हो हो कि 18 सितंबर को पटना के कदमकुआं में जिम ट्रेनर विक्रम सिंह राजपूत को शूटरों ने 5 गोली मार दी थी. जिसमें शक के आधार पर पुलिस ने 3 युवकों को हिरासत में ले लिया था. जिम ट्रेनर विक्रम सिंह राजपूत ने पुलिस को बताया कि “डॉक्टर राजीव सिंह को जिम सिखाने जाता था. वहां मैम से बातचीत शुरू हो गई. मुझे कुछ ठीक नहीं लगा तो कुछ समय बाद ही उनके पास से हटना चाहता था. छोड़ना चाहा तो मुझे वो ब्लैकमेल करने लगी. कभी सुसाइड कर लेंगे तो कभी कुछ और. धीरे-धीरे वहां से हटते चला गया.” विक्रम ने बताया कि “खुशबू सिंह मेरे साथ जबरदस्ती रिलेशन में रहना चाहती थी. मैं ऐसा नहीं चाहता था. मुझे ब्लैकमेल किया गया. उन्होंने कहा कि घर पर जाकर हंगामा कर देंगे. डर के कारण हम उनके साथ रहे. मेरे जिम में आकर एक-एक महीना बैठी रहती थीं. मैंने राजीव सर को दो बार फोन करके बताया. उनको कहा कि सर मैम मुझे परेशान करती हैं. मगर उन्होंने कहा कि सबूत लेकर आओ तो फिर देखते हैं.”

जिम ट्रेनर विक्रम ने एक इंटरव्यू में बताया था कि “खुशबू मेरे साथ जबरदस्ती रिलेशन में रहना चाहती थी. मैं ऐसा नहीं चाहता था. जब हम छोड़ दिए तो वो बोली कि जो मैने पैसा खर्चा किया है, वो तुम मुझे लौटाओ. उतना अमाउंट जो एक साल या तीन साल में जो खर्च किया, वह एक बार में लौटाना पॉसिबल नहीं है. हमने अपना गाड़ी और फोन बेचकर भी लौटाया. हमने कुछ कैश दिया था, बाकी पेमेंट हम उनके हसबेंड डॉ. राजीव कुमार सिंह के अकाउंट में डाल दिए. कुल 85 हजार रुपए लौटा चुके हैं. जब ये रुपए लौटा दिए तो पूछे थे कि अब कोई दिक्कत नहीं है न, तो खुशबू ने कहा था- नहीं.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.